Home » इंडिया » Aarushi-Hemraj murder case: Rajesh, Nupur Talwar release from dasna jail after some time, Allahabad High Court released orders.
 

आरुषि-हेमराज हत्याकांड: थोड़ी देर बाद हो सकती है तलवार दंपति की रिहाई

कैच ब्यूरो | Updated on: 16 October 2017, 15:36 IST

देश की बहुचर्चित मर्डर मिस्ट्री आरुषि-हेमराज हत्याकांड में गुरुवार को इलाहाबाद हाईकोर्ट ने बड़ा फैसला सुनाते हुए आरुषि के माता-पिता डॉ. नुपुर और राजेश तलवार को सबूतों के अभाव में बरी कर दिया गया था. इसी के साथ कोर्ट ने इनको तुरंत जेल से रिहा करने के आदेश दिए थे. लेकिन उनकी रिहाई अब तक नहींं हो सकी है. जानकारी के मुताबिक थोड़ी देर में गाजियाबाद की डासना जेल से उनकी रिहाई हो सकती है.

अधिकारियों ने बताया कि इलाहबाद उच्च न्यायलय की 274 पन्नों की प्रमाणित कॉपी जेल अधिकारियों के पास चुकी है. तलवार दंपति को 1 लाख रुपये प्रति सदस्य जमानत बांड भरना होगा और साथ ही दो व्यक्तियों की गारंटी भी देनी होगी.  तलवार दंपति के वकील मनोज सिसोदिया ने कहा कि उनके मुवक्किलों के शाम 6 बजे तक छूटने की संभावना है.

गौरतलब है कि तलवार दंपति आरुषि की हत्या और सबूतों को मिटाने के आरोप में पिछले 4 साल से जेल में बंद हैं. उन्हें सीबीआई की विशेष अदालत ने दोषी ठहराया था. पारिवारिक सूत्रों ने कहा कि दंपति के रिश्तेदार, जिसमें राजेश तलवार के भाई दिनेश और चिटनीस परिवार (नूपुर तलवार के परिजन) उन्हें लेने के लिए जेल गेट के बाहर पहुंचेंगे.

एक अधिकारी ने आईएएनएस को बताया कि पुलिस प्रत्याशित मीडिया की भीड़ को संभालने की व्यवस्था में जुटी है.
डासना जेल के अधीक्षक दधिराम मौर्य ने कहा कि कानूनी औपचारिकताओं को पूरा करने के बाद तलवार दंपति को रिहा कर दिया जाएगा. कुछ सूत्रों ने बताया कि जेल से बाहर आने के बाद तलवार दंपति नोएडा में एक मंदिर जा सकते हैं.

दरअसल गाजियाबाद अदालत परिसर में राजेश तलवार पर कुछ समय पहले हुए चाकू से हमले का हवाला देते हुए दंपति के वकीलों ने गाजियाबाद पुलिस से उनकी रिहाई के बाद पुलिस सुरक्षा की मांग की है. 

गौरतलब है कि डॉ. तलवार दंपति की बेटी आरुषि की हत्या नोएडा के जलवायु विहार के एल-32 फ्लैट में 15-16 मई 2008 की रात को हुई. पुलिस को शुरुआत में नौकर हेमराज पर शक था लेकिन हेमराज की लाश दो दिन बाद उसी फ्लैट की छत पर बरामद हुई. इसके बाद ये जांच सीबीआई को सौंपी गई. सीबीआई की अदालत ने इन दोनों को हत्या का दोषी मानते हुए उम्र कैद की सजा सुनाई. 

First published: 16 October 2017, 15:36 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी