Home » इंडिया » Abhishek Manu Singhvi in poetic mood during Agusta Westland discussion
 

संसद में अभिषेक मनु सिंघवी का शायराना अंदाज

कैच ब्यूरो | Updated on: 4 May 2016, 15:46 IST

संसद में अगस्ता वेस्टलैंड मुद्दे पर चर्चा के दौरान कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अभिषेक मनु सिंघवी निराले अंदाज में नजर आए. आज राज्यसभा में हेलीकॉप्टर डील पर चर्चा हो रही है. कांग्रेस और बीजेपी के बीच गर्मागर्म बहस हुई.

चर्चा के दौरान सबसे पहले बीजेपी के भूपेंद्र यादव ने अपनी बात रखी. इसके बाद बारी आई अभिषेक मनु सिंघवी की. सिंघवी ने जहां एक ओर अपने तर्कों से कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी का जबरदस्त बचाव किया, वहीं इस दौरान वो शायराना अंदाज में भी नजर आए. 

singhvi

साखों से टूट जाएं...


वैसे तो सिंघवी अपने लाजवाब तर्कों और दलीलों के लिए जाने जाते हैं. इसकी बानगी एक बार फिर राज्यसभा में चर्चा के दौरान दिखी. लेकिन संबोधन के दौरान उन्होंने शायरी का भी इस्तेमाल किया.

अभिषेक मनु सिंघवी ने अपनी बात खत्म करते हुए कहा, "साखों से टूट जाएं वो पत्ते नहीं हैं हम, आंधियों से कह दो अपनी औकात में रहें."

सिंघवी ने इस दौरान इटली की मिलान कोर्ट के कूट शब्दों के जिक्र पर सवाल उठाए. सिंघवी ने कहा कि एपी का अर्थ गुजरात की मुख्यमंत्री का नाम भी हो सकता है. 

पढ़ें:संसद में अगस्ता वेस्टलैंड पर बीजेपी और कांग्रेस में गर्मागर्म बहस

वहीं जेडीयू सांसद शरद यादव ने रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर पर निशाना साधा. शरद ने टिप्पणी करते हुए कहा, "ये डिफेंस मिनिस्टर हैं, जल्दी-जल्दी खड़े हो रहे थे. क्यों खड़े हो रहे हैं आप. क्या बोलेंगे. आप बिल्कुल नहीं बोल पाओगे. यानी कुछ है नहीं. हाथ खाली हैं. तारीखें बताएंगे जैसे तारीखें ये बता रहे थे."

First published: 4 May 2016, 15:46 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी