Home » इंडिया » After 11 days NIT Srinagar students are returning home
 

11 दिन बाद एनआईटी श्रीनगर के छात्रों ने छोड़ा कैंपस

पत्रिका ब्यूरो | Updated on: 12 April 2016, 13:55 IST

राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान (एनआईटी) श्रीनगर के एक हजार से ज्यादा गैर कश्मीरी छात्र परीक्षा से पहले ही अपने घरों को रवाना हो गए हैं. एनआईटी प्रशासन ने कैंपस में विवाद के 11 दिन बाद छात्रों को कैंपस से बाहर निकलने की इजाजत दी.

अभी कैंपस में करीब दो सौ गैर कश्मीरी छात्र रुके हुए हैं. एनआईटी में सोमवार को ही परीक्षा शुरू हुई है. बड़ी संख्या में छात्रों के नहीं शामिल होने की वजह से परीक्षा टलने के संकेत हैं.

हालांकि मानव संसाधन विकास मंत्रालय पहले ही कह चुका है कि छात्र चाहें तो बाद में परीक्षा दे सकते हैं.

पढ़ें:श्रीनगर एनआईटी में छात्रों पर लाठीचार्ज, कैंपस में सीआरपीएफ तैनात

प्रशासन ने कहा, अपने जोखिम पर जाओ

छात्रों का कहना है कि पिछले हफ्ते जब मानव संसाधन विकास मंत्रालय के अधिकारी कैंपस में आए थे तो उन्हें जम्मू तक सुरक्षित पहुंचाने का भरोसा दिया गया था. लेकिन ऐसा कुछ भी होता नहीं नजर आया.

प्रशासन की तरफ से छात्रों को कोई सुरक्षा मुहैया नहीं कराई गई है. हद तो तब हो गई जब उनसे अंडरटेकिंग ली गई. छात्रों से लिखवाया गया है कि वे अपने रिस्क पर कैंपस से बाहर जा रहे हैं.

पढ़ें:एनआईटी श्रीनगर जा रहे अनुपम खेर को पुलिस ने रोका 

बाहर कोई घटना होती है तो प्रशासन की कोई जिम्मेदारी नहीं होगी. वहीं कैंपस से बाहर निकलने की इजाजत मिलने के बाद छात्र श्रीनगर से जम्मू रवाना हो गए. बताया जा रहा है कि ज्यादातर छात्र दिल्ली आ रहे हैं.

छात्रों ने बताया कि पिछले दो दिन से कैंपस में पुलिस ने धारा 144 लगा रखी थी. शनिवार और रविवार को छात्रों को हॉस्टल से बाहर तक नहीं निकलने दिया गया.

छात्रों ने हॉस्टल के मेन गेट पर इकट्ठा होकर कुछ देर नारे लगाए लेकिन पुलिस ने उन्हें वापस अंदर भेज दिया.

पढ़ें:एनआईटी श्रीनगर बना राष्ट्रवाद का नया अखाड़ा

एनआईटी में 31 मार्च को हुआ था विवाद

आईसीसी टी-20 वर्ल्ड कप में 31 मार्च को भारत-वेस्टइंडीज के सेमीफाइनल मैच के दौरान एनआईटी श्रीनगर में हालात बिगड़ गए थे. आरोप है कि टीम इंडिया की हार के बाद यहां छात्रों के एक गुट ने देश विरोधी नारे लगाए.

जिसके खिलाफ कैंपस के ही छात्रों ने प्रदर्शन करते हुए नारेबाजी की. छात्रों के विरोध प्रदर्शन के दौरान पुलिस ने जमकर लाठीचार्ज किया. जिसके बाद करीब सौ से ज्यादा छात्र जख्मी हो गए थे. वहीं विवाद के बाद कुछ छात्रों ने एनआईटी को श्रीनगर से शिफ्ट करने की भी मांग की थी.

पढ़ें:जम्मू-कश्मीर पुलिस: आखिर किसके लिए लड़ रहे हैं हम?

First published: 12 April 2016, 13:55 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी