Home » इंडिया » After 3 soldiers killed, Pak DGMO talk to Indian DGMO
 

LoC: 3 पाक सैनिकों की मौत के बाद पाक DGMO ने भारतीय समकक्ष को किया फोन

कैच ब्यूरो | Updated on: 24 November 2016, 9:54 IST
(पीटीआई)

जम्मू-कश्मीर स्थित भारत-पाकिस्तान की नियंत्रण रेखा पर भारतीय सेना के 'जबरदस्त हमले' के बाद पाकिस्तानी सेना के डीजीएमओ मेजर जनरल साहिर शमशाद मिर्जा ने भारत के डीजीएमओ लेफ्टिनेंट जनरल रणबीर सिंह को फोन करके हमले को रोकने की गुजारिश की.

बताया जा रहा है कि इस बातचीत में भारतीय डीजीएमओ ने पाक आतंकियों और बैट के हमले में भारतीय सैनिक के शव को क्षत-विक्षत किए जाने के कृत्य की कड़े शब्दों में निंदा की.

भारतीय डीजीएमओ कार्यालय की ओर से जारी एक बयान में कहा गया है, "पाकिस्तानी डीजीएमओ को साफ सूचित किया गया है कि अगर पाकिस्तानी सेना द्वारा संघर्षविराम का उल्लंघन शुरू हुआ या पाकिस्तानी कब्जे वाले कश्मीर या भूभाग से आतंकवादियों द्वारा घुसपैठ का कोई प्रयास किया गया, तो इसका भारतीय सेना उचित जवाब देगी".

पाकिस्तानी डीजीएमओ से अपने जवानों को नापाक गतिविधियों से दूर रहने के लिए सख्त नियंत्रण रखने को कहा गया.

कैप्टन समेत तीन पाक जवान मारे गए

बयान में कहा गया है कि इससे नियंत्रण रेखा पर सामान्य स्थिति बहाल हो सकेगी. पाकिस्तानी डीजीएमओ ने नियंत्रण रेखा पर भारतीय गोलीबारी के कारण अपने क्षेत्र में नागरिकों के हताहत होने के बारे में सूचना दी.

इस बीच पाकिस्तानी सेना ने एलओसी पर भारतीय गोलीबारी में मारे गए तीन सैनिकों की बात भी कबूल कर ली. पाकिस्तानी सेना की आईएसपीआर विंग ने कहा कि भारतीय गोलाबारी में कैप्टन तैमूर अली, हवलदार मुश्ताक हुसैन और लांस नायक गुलाम हुसैन शहीद हुए हैं.

पाक डीजीएमओ का बयान

पाकिस्तानी डीजीएमओ मेजर जनरल साहिर शमशाद मिर्जा ने भारतीय समकक्ष से बातचीत में नागरिक बस को कथित रूप से निशाना बनाए जाने पर विरोध दर्ज कराया. दूधनियाल सेक्टर में हुए इस हमले में 9 नागरिकों की मौत हुई है और नौ लोग गंभीर रूप से घायल हैं. यहां तक कि घायलों को लेने आई एंबुलेंस पर भी फायरिंग हुई.

बयान में कहा गया, "निर्दोष नागरिकों को निशाना बनाना मानवता के खिलाफ अपराध है. यह गैर प्रोफेशनल और अनैतिक भी है. यह जेनेवा समझौते और 2003 में डीजीएमओ की आपसी समझ का गंभीर उल्लंघन है. पाकिस्तानी डीजीएम ने अपने समकक्ष को संदेश दे दिया है कि पाकिस्तान अपने तय किए वक्त और जगह पर इसका जवाब देने का अधिकार रखता है. पाकिस्तानी एलओसी और पश्चिमी सीमा पर शांति चाहता है. हम अपने निर्दोष नागरिकों का जीवन और संपत्ति बचाने के लिए हर जरूरी कदम उठाएंगे."

First published: 24 November 2016, 9:54 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी