Home » इंडिया » After 54 years, Chinese soldiers have demanded from India for compensation for compensation
 

54 साल बाद चीन पहुंचकर चीनी सैनिक ने भारत से मांगा ज्यादतियों के लिए मुआवजा

कैच ब्यूरो | Updated on: 19 January 2018, 11:45 IST

चीनी सैनिक वांग छी को 54 साल बाद हाल ही में चीन भेज दिया गया. टाइम्स ऑफ़ इंडिया कि माने तो अब वांग छी ने भारत से 54 साल में ज्यादतियों में लिए मुवावजा माँगा है. रिपोर्ट के मुताबिक वांग छी बीजिंग में भारतीय दूतावास पहुँचे और भारतीय सेना द्वारा उन पर की गई कथित ज़्यादतियों के लिए मुआवजे की मांग की है. भारतीय दूतावास का कहना है कि वांग के ज्ञापन को वह सम्बंधित अधिकारियों को सौंप देंगे.

सूत्रों ने बताया कि वांग ने भारत में मध्यप्रदेश के माओवादी प्रभावित जिले में बिताए अपने पांच दशकों में परेशानी के लिए पर्याप्त मुआवजा मांगा. चीनी सैनिक ने अपनी सेवानिवृत्ति लाभ के लिए चीनी सरकार को भी एक आवेदन भी जमा कर दिया है. वांग ने दावा किया है कि जब उन्हें 3 जनवरी 1963 को भारतीय सेना ने गिरफ्तार किया था तब वह एक यांत्रिक सर्वेक्षण अभियंता थे. 

हालांकि वांग के बेटे विष्णु अभी भी बालाघाट में रहते हैं. विष्णु ने इस बात की पुष्टि की कि उनके पिता मंगलवार को चीन में भारतीय राजनयिकों से मिले थे लेकिन उन्होंने क्या बात की इस बारे में कोई जानकारी उन्हें नहीं है.

गौरतलब है कि वांग का वीज़ा 10 फरवरी को खत्म हो जाएगा. अधिकारियों ने आश्वासन दिया है कि वे इसे दो महीने तक और बढ़ा देंगे. फिलहाल वांग चीन में ज़ियाओज़हेनान के अपने मूल गांव में रह रहे हैं, जबकि उनके पुत्र और पोते तिरुड़ी गांव, बालाघाट में रहते हैं.

 

कुछ महीनों पहले नागपुर के एक निजी अस्पताल में वैंग की पत्नी स्वाइन फ्लू से मृत्यु हो गई थी. वांग ने आरोप लगाया है कि उन्हें कब्जे में लेने के बाद उनपर अत्याचार किया गया था. चूंकि 1962 का युद्ध खत्म हो चुका था, इसलिए उसे एक जासूस के रूप में माना जाता था.

आठ साल के लिए एक जेल से दूसरे स्थानांतरित होने के बाद, उन्हें एक भारतीय नाम के तहत तिरोडी में मुक्त किया गया था. वांग का कहना है कि उन्होंने शादी की लेकिन हमेशा घर लौटने की इच्छा उनके मन में थी. इस साल उन्होंने 10 फरवरी को चीन का दौरा किया और ज़ियाओजहेनान में उनका स्वागत किया गया. जहां उनका बड़ा भाई अभी जीवित है.

First published: 19 January 2018, 11:45 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी