Home » इंडिया » after 7th pay commission recommendation cabinet sec. army chief salary up to president salary
 

जानिए सातवें वेतन आयोग की बदौलत किसकी सैलरी हुई राष्ट्रपति से ज्यादा

कैच ब्यूरो | Updated on: 2 July 2016, 12:52 IST
(एजेंसी)

सातवें वेतन आयोग की सिफारिशें लागू होने के बाद 2.50 लाख रुपये की मासिक तनख्वाह को लेकर एक दिलचस्प पहलू सामने आया है.

आयोग की सिफारिशें लागू होने के बाद केंद्रीय कैबिनेट सेक्रेटरी और सेना अध्यक्ष जैसे कई उच्च पद वाले अधिकारियों की तनख्वाह भारत के राष्ट्रपति की बेसिक सैलरी से एक लाख रुपए ज्यादा हो गई है.

नियम ये है कि भारत में प्रथम नागरिक यानी राष्ट्रपति से ज्यादा किसी भी सरकारी अफसर की बेसिक सैलरी नहीं हो सकती है. इस मामले में केवल अपवाद के तौर पर नियामक संस्थाओं के अफसरों को ही छूट मिलेगी. मौजूदा समय में राष्ट्रपति की बेसिक सैलरी 1.50 लाख रुपये है.

ऐसा पहली बार हुआ है कि राष्ट्रपति की बेसिक सैलरी 1 लाख रुपये से ज्यादा तनख्वाह कैबिनेट सेक्रेटरी उठाएंगे.

वित्त सचिव अशोक लवासा का कहना है, "यह सच है कि सातवें वेतन आयोग की सिफारिशें लागू होने के बाद कुछ उच्च अधिकारियों की सैलरी महामहिम की बेसिक सैलरी से ज्यादा हो गई है, लेकिन हम इस मामले में अभी कोई टिप्पणी नहीं करेंगे."

वहीं सातवें वेतन आयोग के चेयरमैन जस्टिस अशोक कुमार माथुर ने कहा, "यह सही है कि कैबिनेट सेक्रेटरी की बेसिक सैलरी राष्ट्रपति से ज्यादा हो गई है. कानून के मुताबिक ऐसा नहीं होना चाहिए था. इस समस्या के निदान के लिए केंद्र सरकार इस मामले में जल्द ही नोटिफिकेशन निकालेगी."

वेतन आयोग की इस गलती पर संविधान विशेषज्ञ सुभाष कश्यप का कहना है, "चूंकि राष्ट्रपति देश के सर्वोच्च नागरिक हैं. इसलिए नियमों के मुताबिक किसी भी सरकारी कर्मचारी की बेसिक सैलरी उनसे ज्यादा नहीं हो सकती है. इसके अलावा हमें यह भी याद रखना चाहिए कि वो देश की सेना के सर्वोच्च कमांडर भी हैं, ऐसे में किसी तरह से उनके नीचे सेवा देने वाले सैन्य प्रमुख की सैलरी ज्यादा हो सकती है."

जानकारों के मुताबिक इस मामले में सरकार के पास अब जो विकल्प हैं, वो इस तरह हैं:

  • सरकार कैबिनेट सेक्रेटरी और अन्य उच्च अधिकारियों की सैलरी घटाकर राष्ट्रपति की बेसिक सैलरी से कम करे, लेकिन इस बात की संभावना कम है.
  • सरकार राष्ट्रपति की बेसिक सैलरी को बढ़ाकर 2.50 लाख रुपए से ज्यादा करे और इसे 1 जनवरी 2016 की बीती तारीख से लागू किया जाए.

गौरतलब है कि सातवें वेतन आयोग की सिफारिशों के आधार पर कैबिनेट सेक्रेटरी, कैग, सेना प्रमुख जैसे उच्च अधिकारियों की सैलरी 90 हजार से बढ़कर 2.50 लाख रुपए है. यह राष्ट्रपति के बेसिक सैलरी से 1 लाख रुपए ज्यादा है.

First published: 2 July 2016, 12:52 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी