Home » इंडिया » After armed drone deals india and america working on framework for sharing of classified defence technology
 

भारत के साथ महत्वपूर्ण डिफेंस डील के लिए अमेरिका तैयार, चीन-पाकिस्तान को मिलेगा मुहतोड़ जबाब

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 June 2019, 14:23 IST

अमेरिका ने भारत को अपना अहम साझेदार मानते हुए महत्वपूर्ण सुरक्षा तकनीक और गोपनीय सूचनाएं साझा करने को तैयार है और इसके फ्रेमवर्क पर काम कर रहा है. अमेरिका द्वारा सशस्त्र डोन्स बेचने की मंजूरी देने के बाद अब भारत के साथ ये महत्वपूर्ण डिफेंस डील माना जा रहा है. अमेरिका इस तरह की व्यवस्था के लिए तैयार होगा जिससे अमेरिकी रक्षा कंपनियां भारतीय प्राइवेट सेक्टर को संयुक्त उपक्रम के तहत अहम टेक्नॉलजी ट्रांसफर कर सकें .

वर्तमान में भारतीय निजी कंपनियों के साथ अमेरिकी कंपनियों के सीक्रेट डिफेंस इंफॉर्मेशन शेयर करने को कोई पॉलिसी नहीं है. रिपोर्ट्स के मुताबिक दोनों देश महत्वपूर्ण मिलिट्री टेक्नॉलजी साझा करने के लिए स्पेशल ब्लू-प्रिंट पर काम कर रहे हैं. जून 2016 में अमेरिका ने भारत को ''मेजर डिफेंस पार्टनर'' का दर्जा दिया था.

 

पाकिस्तान और चीन से अपने हितों की रक्षा

अमेरिकी सरकार ने भारत को हथियारों से लैश ड्रोन्स बेचे जाने को मंजूरी दे दी है. इसके साथ ही इंटिग्रेटिड एयर ऐंड मिसाइल डिफेंस सिस्टम बेचने का भी ऑफर किया है. इससे न सिर्फ भारत की सैन्य क्षमताओं को बढ़ाने में मदद मिलेगी बल्कि हिंद-प्रशांत क्षेत्र में अपने हितों की रक्षा करने में मदद मिलेगी. अमेरिका की ओर यह ऑफर ऐसे समय में आया है जब इसी साल फरवरी में पुलवामा में सीआरपीएफ काफिले पर हुए आतंकी हमले के बाद से पाकिस्तान के साथ तनाव अपने चरम पर है. यही नहीं चीन की बढ़ती सैन्य ताकत भी भारत के लिए चिंता का विषय रही है.

First published: 9 June 2019, 19:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी