Home » इंडिया » After army surgical operation rajnath singh called high level meeting on internal security
 

सर्जिकल ऑपरेशन के बाद आंतरिक हालात की समीक्षा के लिए राजनाथ ने बुलाई बैठक

कैच ब्यूरो | Updated on: 30 September 2016, 10:28 IST
(एजेंसी)

भारतीय सेना के द्वारा पाक अधिकृत कश्मीर में की गई सर्जिकल स्ट्राइक के बाद आज केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने आंतरिक सुरक्षा की समीक्षा के लिए आला अधिकारियों की एक अहम बैठक बुलाई है.

गृह मंत्रालय में हो रही इस बैठक में राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार समेत आला अधिकारी भी हिस्सा ले रहे हैं. यह बैठक सुबह 11 बजे शुरू हो चुकी है.

राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल बैठक में शामिल होने के लिए पहुंचे. गुरुवार को डीजीएमओ (डायरेक्टर जनरल ऑफ मिलिट्री ऑपरेशंस) रणबीर सिंह ने भारत के सर्जिकल ऑपरेशन की जानकारी दी थी. गृह मंत्रालय में ही रही बैठक में आंतरिक सुरक्षा को लेकर देश के ताजा हालात पर चर्चा हो रही है.

इसके अलावा माना जा रहा है कि इस मसले पर आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी सुरक्षा मामलों की कैबिनेट कमेटी (सीसीएस) की बैठक बुला सकते हैं.

गौरतलब है कि बुधवार रात सेना के जवानों ने नियंत्रण रेखा पार करके पीओके में सर्जिकल स्ट्राइक किया और आतंकियों के कैंप तबाह कर दिए.

उरी हमले के 10 दिन बाद सरकार और सेना के द्वारा किए गए सर्जिकल स्ट्राइक का पूरे देश और सभी राजनीतिक दलों ने समर्थन करते हुए सेना को बधाई दी है.

तीनों सेनाएं हाई अलर्ट पर

पाकिस्तान द्वारा किसी दुस्साहस की आशंका को देखते हुए एहतियात के तौर पर उत्तर-पश्चिमी सीमा पर हाई अलर्ट जारी कर तीनों सेनाओं को तैयार रहने का आदेश दिया गया है.

इसी के चलते सीमा सटे 1000 गांव खाली कराए गए हैं. पंजाब, राजस्थान व गुजरात में सेना, वायुसेना व बीएसएफ को हाई अलर्ट कर दिया गया है. कश्मीर से गुजरात तक की सीमा पर तैनात सेना के जवानों की छुट्टियां रद्द कर दी गई हैं.

डीजीएमओ ने दी थी जानकारी

इस मामले में डीजीएमओ लेफ्टिनेंट जनरल रणबीर सिंह ने गुरुवार सुबह विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरूप के साथ प्रेस कॉन्फ्रेंस कर ऑपरेशन के कामयाब होने की सूचना दी.

उन्होंने बताया कि कार्रवाई पुख्ता खुफिया सूचना के आधार पर की गई. बाद में इसकी सूचना पाक डीजीएमओ को भी दी गई.

रणबीर सिंह ने बताया कि आतंकी भारत के नागरिकों व बड़े शहरों को नुकसान पहुंचाने की योजना बना रहे थे और वे घुसपैठ के लिए तैयार बैठे थे. उनके सफाए के लिए सर्जिकल ऑपरेशन को अंजाम दिया गया.

उन्होंने कहा कि भारतीय सेना उम्मीद करती है कि पाक सेना क्षेत्र को आतंकवाद से मुक्त करने के 2004 के अपने वादे के अनुसार इसमें सहयोग करेगी.

लेफ्टिनेंट जनरल सिंह ने कहा है कि भारतीय सेना का आगे कार्रवाई का इरादा नहीं है, लेकिन सेना किसी भी आपात स्थिति से निपटने के लिए तैयार है.

First published: 30 September 2016, 10:28 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी