Home » इंडिया » After ban 500 and 1000 INR snapdeal, amazon and snapdeal close cash on delivery
 

500 और 1000 के नोट बंद होने पर फ्लिपकार्ट, अमे‍जन, स्‍नैपडील ने बंद की कैश ऑन डिलीवरी

कैच ब्यूरो | Updated on: 9 November 2016, 16:26 IST
(एजेंसी)

मोदी सरकार के द्वारा 500 और 1000 रुपए के नोट बंद किए जाने के बाद से आम जनता ही नहीं कई कंपनियों में भी खलबली मची हुई है.

भारत में ऑनलाइन शॉपिंग के लिए मशहूर तीन बड़ी कंप‍नियों फ्लिपकार्ट, अमेजन और स्‍नैपडील ने सरकार के इस आदेश के बाद अपने कैश ऑन डिलीवरी विकल्‍प को वर्तमान में बंद कर दिया है.

सरकार के इस फैसले के बाद अमे‍जन से कैश ऑन डिलीवरी विकल्‍प सेलेक्‍ट करने पर एक संदेश दिखाया जा रहा है, ”हमने वर्तमान में कैश ऑन डिलीवरी को स्‍थगित कर दिया है ताकि आपके पास जरूरी पेमेंट्स के लिए कैश बचा रहे.”

इसके अलावा कंपनी के संदेश में लोगों से यह भी अनुरोध किया गया है कि वो खरीदारी के लिए अपने डेबिट/क्रेडिट कार्ड्स या नेट बैंकिंग का इस्‍तेमाल ही करें.

वहीं स्‍नैपडील में भुगतान के लिए कैश ऑन डिलीवरी का विकल्‍प सेलेक्‍ट हो रहा है मगर वेबसाइट पर एक घोषणा दी गई है, ”500 व 1000 रुपए के वर्तमान करेंसी नोट्स बंद कर दिए गए हैं. कृपया सही मूल्‍य के नोट डिलीवरी के वक्‍त भुगतान के लिए तैयार रखें.”

कंपनी की ओर से यह साफ नहीं किया गया है कि जिन लोगों ने कैश ऑन डिलीवरी के जरिए महंगा सामान खरीदा है. आखिर वो भुगतान को कैसे करेंगे, क्‍योंकि ज्‍यादातर लोगों के पास 100 रुपए के इतने सारे नोट होने की संभावना बेहद कम है.

वहीं फ्लिपकार्ट नेे अपनी वेबसाइट पर किसी तरह की कोई घोषणा नहीं लगाई है, मगर जब आप 1000 रुपए की सीमा से ऊपर जाते है, यह एक बैनर दिखाता है, ”इस ऑर्डर के लिए यह भुगतान विकल्‍प उपलब्ध नहीं है. कृपया भुगतान का कोई अन्य विकल्‍प चुनें.”

गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के द्वारा मंगलवार की रात राष्‍ट्र के नाम संबोधन में घोषणा की थी कि 8 नवंबर की रात 12 बजे के बाद से 500 और 1000 रुपए के नोट पूरे देश में कानूनी तौर पर मान्य नहीं होंगे.

हालांकि यह नोट अस्‍पतालों, पेट्रोल पंपों, रेलवे स्‍टेशनों, मेट्रो स्‍टेशनों और केमिस्‍ट्स के यहां 11 नवंबर तक चल सकेंगे, लेकिन बाकी जगह इनका प्रयोग नहीं हो सकेगा.

First published: 9 November 2016, 16:26 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी