Home » इंडिया » after burhan encounter 500 amarnath devotees trap in kashmir
 

बुरहान की मौत के बाद फैले तनाव के कारण लखनऊ के 500 अमरनाथ यात्री घाटी में फंसे

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 July 2016, 13:52 IST
(पीटीआई)

कश्मीर घाटी में सुरक्षाबलों के हाथों मारे गए हिजबुल कमांडर बुरहान वानी और उसके साथियों के बाद हिंसक तनाव के कारण कर्फ्यू लगा हुआ है. इसकी वजह से पहलगाम और बालटाल में उत्तर प्रदेश के लखनऊ से गए लगभग 500 अमरनाथ यात्री फंसे हुए हैं.

इस मामले में लखनऊ स्थित ठाकुरगंज के निवाजगंज निवासी मनीष रस्तोगी भी तीन अन्य परिजनों के साथ वहां फंसे हैं. रस्तोगी ने एक समाचार पत्र को बताया कि बाबा के दर्शन के बाद शनिवार को हिमगिरी ट्रेन से जम्मू से वापसी का रिजर्वेशन है, लेकिन वह शनिवार तक बालटाल से नहीं चल सके थे.

वहां हालात ऐसे हैं कि यात्रियों की सैंकड़ों गाड़ियां फंसी हैं. बालटाल में फंसे मनीष ने बताया कि सुरक्षा बलों ने रात 11 बजे से तीन बजे के बीच सुरक्षा घेरे में यात्रियों को श्रीनगर की ओर निकालने का आश्वासन दिया है. इसलिए वह शाम से ही गाड़ी में बैठे हुए हैं. 

अभी तक गाड़ियों को छोड़ा नहीं गया है. उम्मीद है कि रात तीन बजे से पहले यात्रियों को निकाला जाएगा. मनीष ने बताया बालटाल में हजारों यात्री पिछले दो दिनों से फंसे पड़े हैं. हिंसा के बाद कश्मीर में बंद कर दिए गए इंटरनेट और नेटवर्क में आ रही दिक्कतों के चलते भी वहां यात्रा में फंसे लोगों के लिए दिक्कतें बढ़ी हैं.

लखनऊ के इंदिरा नगर निवासी विजय तमाम लोगों को लेकर अमरनाथ भंडारा लगाने गए थे, लेकिन उन्हें भी बालटाल में ही रुकना पड़ा है.

विजय ने बताया कि वहां फोन काम नहीं कर रहे हैं. इंटरनेट बंद करवा दिया गया है. बड़ी मुश्किल से शनिवार को बात हो सकी. ट्रांसगोमती निवासी अखिलेश सिंह के दोस्त भी यात्रा पर वहीं गए हैं, जिनसे शनिवार को बात नहीं हो सकी. लखनऊ के विजय पाठक भी यात्रा पर गए हुए हैं.

श्री अमरनाथ सेवा संस्थान के महामंत्री ओम प्रकाश निगम ने बताया कि 24 साल से उनकी संस्था अमरनाथ यात्रा में भंडारे का आयोजन करती है. यह भंडारा बेस कैंप मनीगाम बालटाल रोड कश्मीर में लगता है. इस बार भंडारे में सेवा और दर्शन करने के लिए सैकड़ों लोग लखनऊ से गये हैं. 

उन्होंने बताया कि उनमें कुछ यात्री जो वापस लौट रहे थे वो भी फंसे हुए हैं. उन्‍होंने श्रद्धालुओं के परिजनों से अपील की है कि वे घबराएं नहीं. सभी श्रद्धालु सुरक्षित हैं जिनमें से कुछ अनंतनाग के पास एफसीआई गोदाम में पुलिस बल की निगरानी में हैं. स्थिति संभलते ही उनको वहां से सुरक्षित यात्रा के लिए भेजा जायेगा.

First published: 10 July 2016, 13:52 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी