Home » इंडिया » after ministers reshuffle shivsena told we are not bagger
 

मंत्रिपरिषद विस्तार: अनदेखी पर बोली शिवसेना, खैरात नहीं मंजूर हमें

कैच ब्यूरो | Updated on: 6 July 2016, 12:37 IST
(पीटीआई)

मोदी सरकार के मंत्रिपरिषद विस्तार में शिवसेना को जगह नहीं दिए जाने से आहत शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने मंगलवार को कहा, "मैंने कभी ब्लैकमेलिंग नहीं की. कभी नहीं कहा कि यह दीजिए या वो दीजिए. जो भी देश के हित में है, मैं उसके साथ हूं."

उद्धव ठाकरे ने यह बात बांद्रा स्थित अपने आवास ‘मातोश्री’ पर कही. उद्धव ने कहा, "मैं शपथ ग्रहण करने वाले सभी मंत्रियों को बधाई देता हूं. मैं उन्हें मुबारकवाद देता हूं. मुझे उम्मीद है कि वे सभी आजादी से काम कर सकेंगे और कहीं ना कहीं प्रशासन मजबूत होगा."

ठाकरे ने कहा कि शिवसेना और शिवसैनिक कभी असहाय के तौर पर किसी के दरवाजे पर नहीं गए और कभी ऐसा नहीं करेंगे. उन्होंने कहा, "हमारा जो अधिकार है, हम हासिल करेंगे. किसी की दी गई खैरात नहीं कबूलेंगे. शिवसेना किसी तरह का मोलभाव नहीं करना चाहती है."

ठाकरे ने कहा, "आपने देखा होगा कि अनंत गीते शपथ ग्रहण समारोह में मौजूद थे. मैं मोलभाव नहीं करना चाहता, लेकिन उसी समय मैं किसी के आगे असहाय भी नहीं रहूंगा."

वहीं दूसरी ओर शिवसेना प्रवक्ता मनीषा कायांदे ने कहा कि पार्टी अपने साथ हुए बर्ताव से आहत है. मनीषा ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधते हुए यह भी कहा कि उन्हें शिवसेना में मंत्री पद के लिए कोई प्रतिभाशाली व्यक्ति नहीं दिखाई दिया.

मनीषा ने कहा, "मोदीजी कह रहे हैं कि वह क्षमता और प्रतिभा के आधार पर अपने मंत्रियों का चुनाव करेंगे ताकि वे अच्छा काम कर सकें. क्या उन्हें शिवसेना में कोई प्रतिभाशाली व्यक्ति नहीं दिखाई दिया?

हम इस विस्तार से आहत हैं और हमारे सहयोगी द्वारा हमारे साथ किये गये बर्ताव को भविष्य में होने वाले कई स्थानीय निकाय चुनावों में ध्यान में रखेंगे."

उन्होंने कहा, "जब भी शिवसेना और बीजेपी के बीच तकरार हुई, तो बीजेपी के शीर्ष नेतृत्व ने हर बार हमसे कहा कि हमारी समस्याएं आंतरिक हैं, जैसी एक घर में रहने वाले सदस्यों के बीच होती हैं. आज वे अपने ही घर के सदस्यों को भूल गए और हमें महत्व नहीं दिया?"

गौरतलब है कि मोदी मंत्रिमंडल में शिवसेना से इकलौते प्रतिनिधि अनंत गीते हैं, जो भारी उद्योग मंत्रालय का प्रभार संभाल रहे हैं. पिछले कुछ महीने से शिवसेना ने भाजपा और राजग सरकार की नीतियों पर हमले तेज कर दिए हैं. ज्यादातर बार पार्टी के मुखपत्र ‘सामना’ के जरिए बीजेपी पर तंज कसा जा रहा है.

First published: 6 July 2016, 12:37 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी