Home » इंडिया » after modi qualification now congress questions on modi has two dates of birth
 

प्रधानमंत्री मोदी की डिग्री के बाद अब जन्मतिथि पर विवाद

कैच ब्यूरो | Updated on: 2 May 2016, 12:48 IST

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के शैक्षिक योग्यता का मामला अभी शांत भी नहीं हुआ था कि उनकी जन्मतिथि से जुड़ा एक नया विवाद सामने आ गया है.

गुजरात के कांग्रेसी विधायक और पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता शक्ति सिंह गोहिल ने चुनाव आयोग से निवेदन किया है कि वो प्रधानमंत्री मोदी के शैक्षिक योग्यता के कागजातों में कथित गलत जानकारियों को अपने संज्ञान में ले.

डिग्री-हलफनामे में अलग जानकारी !


पीएम की डिग्री के बारे में रविवार को एक स्थानीय अखबार में छपी रिपोर्ट में बताया गया था कि पीएम मोदी ने प्री साइंस डिग्री विसनगर कॉलेज से ली थी. इस डिग्री में पीएम मोदी की जन्मतिथि 29 अगस्त, 1949 लिखी हुई है.

जबकि पीएम की ओर से चुनाव आयोग में जो हलफनामा दिया गया था, उसमें उनकी जन्मतिथि 17 सितंबर 1950 बताई गई है. 

पढ़ें: पीएम मोदी की डिग्री से जुड़ी सूचना देना कानूनन जरूरी है?

कांग्रेसी विधायक शक्ति सिंह गोहिल ने पत्रकारों से कॉलेज के रिकॉर्ड शीट की फोटोकॉपी सााझा करते हुए कहा कि विसनगर के एमएन साइंस कॉलेज के रिकॉर्ड के मुताबिक नरेंद्र दामोदरदास मोदी की जन्मतिथि 29 अगस्त 1947 बताई गई है.

वहीं चुनाव आयोग में जमा किए गए हलफनामे में उनकी जन्मतिथि 17 सितंबर 1950 बताई गई है. गोहिल ने पूछा है कि पीएम मोदी की जन्मतिथि में आखिर ये अंतर क्यों है, इसे उनके द्वारा साफ किए जाने की जरूरत है.

शक्ति सिंह गोहिल ने उठाए सवाल


रविवार को कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता गोहिल ने कहा, "माननीय मोदी जी की शैक्षिक योग्यता जानने के लिए पिछले सात साल में 70 आरटीआई दाखिल की गई थी. लेकिन तत्कालीन सीएम ऑफिस और गुजरात यूनीवर्सिटी के द्वारा जानकारी देने से इनकार किया जाता रहा."

गोहिल ने कहा कि अभी दो दिनों में ऐसा क्या हो गया कि गुजरात यूनीवर्सिटी अचानक से कुछ ज्यादा ही सक्रिय हो गई और वो पीएम के से जुड़े मामले में सारी जानकारी दे रही है.

साथ ही गोहिल ने कहा कि जनता को माननीय मोदी जी की छाती की साइज में रूचि नहीं है, लेकिन जिसने उनको वोट दिया है, उसकी योग्यता जानने का अधिकार जनता के पास है.

पढ़ें: प्रधानमंत्री मोदी के पास है राजनीति विज्ञान में एमए की डिग्री

रविवार को गुजरात विश्वविद्यालय के कुलपति एम एन पटेल ने बताया कि नरेन्द्र दामोदर दास मोदी ने 1983 में राजनीति विज्ञान में एमए की परीक्षा पास की. 

मार्कशीट की कॉपी देने से इनकार


कुलपति पटेल ने बताया कि पीएम मोदी ने 800 में से 499 अंक हासिल किए थे, जो 62.3 फीसदी है. लेकिन पटेल ने प्रधानमंत्री की मार्कशीट की कॉपी देने से इनकार कर दिया था.

पूरे विवाद में गुजरात यूनीवर्सिटी के कुलपति पटेल ने कहा कि मैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अंकपत्र की कॉपी मीडियाकर्मियों या किसी अन्य को नहीं दे सकता हूं. ये केवल उम्मीदवार को ही दी जा सकती है.

कुलपति के मुताबिक अगर मुझे पीएमओ या फिर सीआईसी से इस बारे में कोई दिशा-निर्देश जारी होता है, तभी मैं मार्कशीट देने में सक्षम हूं.

First published: 2 May 2016, 12:48 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी