Home » इंडिया » Catch Hindi: After muslim, RSS make a organisation for Christian
 

मुसलमानों के बाद संघ बनाएगा ईसाई समर्थक मंच

आशीष कुमार पाण्डेय | Updated on: 5 January 2016, 8:12 IST
QUICK PILL
  • नरेंद्र मोदी सरकार के प्रयास से संघ ईसाईयों के बीच यह संदेश लेकर जाना चाहता है कि वह दिल्ली समेत पूरे विश्व में चर्च पर हो रहे हमले की निंदा करता है.
  • आरएसएस के वरिष्ठ प्रचारक और राष्ट्रीय मुस्लिम मंच के मार्गदर्शक इंद्रेश कुमार का कहना है कि हम भारत में रह रहे आखिरी ईसाई तक पहुंचना चाहते हैं.

पिछले कुछ दिनों से राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के वैचारिक कलेवर में कई बदलाव देखने को मिल रहे हैं. मुस्लिम मंच आंबेडकर और दलित प्रेम के बाद अब संघ का ईसाई प्रेम भी जग गया है. ताजा जानकारी के मुताबिक भारत में ईसाईयों के लिए संघ एक नया आनुषंगिक संगठन खोलने पर विचार कर रहा है. इस मामले में संघ ने ईसाई धर्मगुरुओं के साथ एक बैठक की है.

अपनी रणनीति के तहत संघ इस नये संगठन के जरिए ईसाई संप्रदाय के बीच पकड़ को पुख्ता बनाने और अपनी विचारधारा को फैलाना चाहता है. इससे पूर्व संघ द्वारा समर्थित 2002 में स्थापित राष्ट्रीय मुस्लिम मंच संगठन मुसलमानोंं के बीच तेजी से अपनी सक्रियता बढ़ा रहा है.

ईसाइयों के लिए प्रस्तावित नये संगठन का नाम अभी तय नहीं हुआ है लेकिन राष्ट्रीय मुस्लिम मंच की तर्ज पर इसका नाम राष्ट्रीय ईसाई मंच हो सकता है. यह संगठन ईसाई संप्रदाय के बीच संघ की छवि को बेहतर बनाने के लिए पुल का काम करेगा. 

राष्ट्रीय मुस्लिम मंच के मार्गदर्शक इंद्रेश कुमार कहते हैं कि उनका प्रयास भारत के आखिरी ईसाई तक पहुंचना है

आरएसएस के वरिष्ठ प्रचारक और राष्ट्रीय मुस्लिम मंच के मार्गदर्शक इंद्रेश कुमार ने टाइम्स आॅफ़ इंडिया अख़बार से कहा है कि इस दिशा में आगे कदम बढ़ाया जा चुका है. हमारा प्रयास है कि हम भारत में आखिरी ईसाई तक पहुंच सकें. इस मामले में हमने उनके साथ बीते 17 दिसंबर 2015 को दिल्ली में एक बैठक भी की थी.  

आरएसएस राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सदस्य इंद्रेश कुमार के मुताबिक 17 दिसंबर को 10-12 राज्यों के 4-5 ऑर्कबिशप और 40-50 रेवरेंड बिशप के साथ बैठक में तय हुआ कि संगठन निर्माण की प्रक्रिया को गति दी जाए.

ऐसा पहली बार हुआ है कि संघ नये संगठन के गठन के लिए ईसाई पादरियों के साथ संपर्क साध रहा है. 17 दिसंबर की बैठक में संघ की ओर से इंद्रेश कुमार और वीएचपी के चिन्मयानंद स्वामी मौजूद थे. इस बैठक में ईसाईयों को भारतीय मिट्टी से शांति, सौहार्द और प्यार का संदेश दिया गया.

पढ़ेंः एक बीफ खाने वाला व्यक्ति भी स्वंयसेवक हो सकता है: आरएसएस

बैठक में ऑर्क बिशप मॉर कुरिआकोसे, गुड़गांव डॉयसेस के बिशप जैकब मॉर बारनॉबास, दिल्ली डॉयोसेस के बिशप इशॉक औस्थेयस के अलावा उत्तर भारत चर्च के महासचिव अलवॉन मसीह भी शामिल थे. ईसाई संगठन भाजपा सरकार और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर धार्मिक असहिष्णुता के मुद्दे पर चुप्पी साधने के आरोप लगते रहे हैं. 

दक्षिणपंथी समूहों द्वारा समर्थित 'घर वापसी' और 'लव जिहाद' जैसे मुद्दों से सरकार पर ऐसे तत्वों के प्रति नरमी बरतने का भी आरोप लगता रहा है.

साल 2014 में आगरा में एक दक्षिणपंथी संगठन ने बड़े पैमाने पर धर्म परिवर्तन करवाने का प्रयास किया था. जिसकी राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय जगत मे काफी आलोचना हुई थी. तब सरकार ने आरएसएस के उच्च पदाधिकारियों से इसे बंद करने के लिए कहा.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर धार्मिक असिहष्णुता के मुद्दे पर चुप्पी साधने का आरोप लगता रहा है

इंद्रेश कुमार ने कहा कि सहिष्णुता से ही भारत की प्रतिष्ठा है. आप मुझे बताइये कि पूरे विश्व में कोई अन्य देश भारत से ज्यादा धर्मनिरपेक्ष है. मैं भारत की धर्मनिरपेक्षता को सलाम करता हूं.  

राष्ट्रीय मुस्लिम मंच के संचालन से जुड़े कुमार ने इस संगठन को मुसलमानों का, मुसलमानों के लिए बनाई हुई संस्था बताया. यह पूछने पर कि क्या ईसाईयों के लिए बन रहे नये संगठन की रुपरेखा राष्ट्रीय मुस्लिम मंच की तरह ही होगी? इस सवाल के जवाब में इंद्रेश कुमार ने कुछ भी स्पष्ट नहीं कहा.

पिछले कुछ सालों में पूरे देश में चर्च पर हुए हमलों के लेकर भाजपा सरकार को कठघरे में खड़ा किया जाता रहा है. ऐसे में माना जा रहा है कि संघ ईसाईयों के बीच यह संदेश लेकर जाना चाहता है कि वह दिल्ली समेत पूरे विश्व में चर्च पर हो रहे हमले की निंदा करता है.

पिछले महीने क्रिसमस के मौके पर कैथोलिक बिशप कॉफ्रेंस ऑफ इंडिया के एक कार्यक्रम में गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने भी कहा था कि भारत में ईसाईयों के साथ किसी भी तरह के अन्याय और भेदभाव को सहन नहीं किया जायेगा. उन्होंने भारत में पिछले साल हुए चर्च पर हमलों के लिए खेद भी जताया.

पढेंः राम मंदिर रिटर्न: इन पत्थरों का निशाना मंदिर नहीं सरकार है

पढ़ेंः संघ से मिली हरी झंडी संगठन और सरकार में होगा बदलाव

पढ़ेंः अयोध्या में राम मंदिर और दादरी में बीफ: महेश शर्मा

First published: 5 January 2016, 8:12 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी