Home » इंडिया » After the China and Pakistan, the Maldives is also on the road to confronting India
 

क्या चीन और पाकिस्तान के बाद मालदीव भी भारत से टकराव की राह पर है ?

कैच ब्यूरो | Updated on: 9 February 2018, 10:59 IST

डोकलाम में चीनी निर्माण की ख़बरों के बीच अब भारत और मालदीव टकराव की रह पर बढ़ रहे. हिंदुस्तान टाइम्स की एक रिपोर्ट की माने तो मालदीव के राष्ट्रपति अब्दुल्ला यामीन ने चीन, पाकिस्तान और सऊदी अरब को 'मित्र राष्ट्र' बताया है. गौरतलब है कि मालदीव में चीन की बड़ी आर्थिक मौजूदगी भी भारत के लिए चिंता की बात है. कहा जाता है कि मालदीव को बाहरी मदद का 70 फीसदी हिस्सा अकेले चीन से मिलता है.

ये भी पढ़ें : राज्यसभा में पीएम मोदी ने कांग्रेस से पूछा, क्या हमेशा आप ही बैटिंग करते रहेंगे

चीन यही चाल पकिस्तान को लेकर भी खेलता रहा है. वह पाकिस्तान में इकोनॉमिक कॉरिडोर बना चुका है. मालदीव ने अपने मित्र राष्ट्रों की सूची भारत का नाम हटा लिया है. दरअसल संकट से घिरे मालदीव में राष्ट्रपति ने अपने दूत उन देशों में भेजे हैं, जहां लोकतंत्र के लिए बहुत ज्यादा सम्मान नहीं है. सुप्रीम कोर्ट द्वारा कई विपक्षी नेताओं की रिहाई के फैसले से नाराज अब्दुल्ला यामीन ने विदेशों से समर्थन जुटाने के लिए आर्थिक विकास मंत्री मोहम्मद सईद को बीजिंग भेजा है.

विदेश मंत्री मोहम्मद आसीम पाकिस्तान रवाना हुए हैं और कृषि और मत्स्य पालन मंत्री सऊदी अरब पहुंचे हैं. यामीन को लग रहा है कि इन देशों के समर्थन से वह विपक्ष और सुप्रीम कोर्ट को दबा सकेंगे.
राष्ट्रपति कार्यालय की वेबसाइट के मुताबिक, "कैबिनेट के सदस्यों को राष्ट्रपति अब्दुल्ला यामीन गय्यूम के निर्देश पर मित्र देशों में भेजा गया है, वे मौजूदा हालात की जानकारी देंगे."

नई दिल्ली स्थित मालदीव के दूतावास ने कहा है कि विदेश मंत्री मोहम्मद असीम को पहले भारत आना था, लेकिन 'भारत सरकार के आग्रह के बाद ये यात्रा रद्द कर दी गई'.मालदीव में पिछले कुछ दिनों से राजनीतिक उथल-पुथल चल रही है.

मालदीव में सुप्रीम कोर्ट और सरकार के बीच टकराव के कारण संकट पैदा हुआ है. सुप्रीम कोर्ट ने पूर्व राष्ट्रपति नशीद समेत 9 नेताओं की रिहाई का आदेश सुनाया था जिसे सरकार ने मानने से इनकार कर दिया. बाद में राष्ट्रपति अब्दुल्ला यामीन ने देश में आपातकाल लगाने की घोषणा घोषणा कर दी और सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीशों को गिरफ़्तार कर लिया गया.

First published: 9 February 2018, 10:57 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी