Home » इंडिया » AgustaWestland chopper deal: Corruption took place, ex-IAF chief SP Tyagi was involved
 

अगस्ता वेस्टलैंड घोटाला: जद में पूर्व वायुसेनाध्यक्ष एसपी त्यागी और कांग्रेसी नेता

कैच ब्यूरो | Updated on: 1 May 2016, 12:21 IST

अगस्ता वेस्टलैंड हेलीकॉप्टर घोटाले में इटली की एक कोर्ट ने अहम फैसला दिया है. मिलान कोर्ट ऑफ अपील्स ने माना है कि अगस्ता वेस्टलैंड वीवीआईपी चॉपर डील में भ्रष्टाचार हुआ और रिश्वत दी गई.

कोर्ट का मानना है कि इसमें भारतीय वायुसेना के पूर्व चीफ एसपी त्यागी भी शामिल थे. वहीं कोर्ट ने कथित तौर पर केंद्र की पूर्ववर्ती यूपीए सरकार पर अहम दस्तावेज साझा नहीं करने का भी आरोप लगाया है.

कोर्ट की इस कथित टिप्पणी के बाद बीजेपी अब इस मुद्दे को भुनाने की तैयारी में है. सूत्रोें के मुताबिक बीजेपी इस मामले में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी का नाम उछालने की तैयारी कर रही है. गौरतलब है कि इटली की कोर्ट ने अपने फैसले में कुछ कांग्रेसी नेताओं के खिलाफ भी टिप्पणी की है.

बुधवार को राज्यसभा में भाजपा सांसद सुब्रमण्यम सवामी इस मुद्दे को चर्चा के लिए उठाएंगे. दूसरी तरफ लोकसभा में इस मुद्दे पर बहस के लिए भाजपा सासद अनुराग ठाकुर ने नोटिस दिया है.

इटली की अगस्ता वेस्टलैंड कंपनी ने भारत से 3600 करोड़ रुपये में 12 वीवीआईपी हेलीकॉप्टरों का सौदा किया था. यूपीए-2 के कार्यकाल में इस डील में घोटाले की बात सामने आई थी.

एसपी त्यागी ने ली थी रिश्वत !


कोर्ट के मुताबिक, ये साबित हो चुका है कि इस सौदेबाजी में करीब 125 करोड़ की रिश्वत भारतीय नेताओं और अफसरों को दी गई. अदालत ने अगस्ता वेस्टलैंड हेलीकॉप्टर कंपनी के मालिक जिउसेपे ओरसी और कंपनी फिनमेकैनिका को घूस देने का दोषी करार दिया है.

मिलान की अदालत ने ओरसी को साढ़े चार साल की सजा सुनाई है. अदालत ने ने 225 पन्नों के अपने फैसले में कहा कि जांच में ये बात साबित हो गई है कि सौदे के दौरान रिश्वत दी गई.

अदालत के 225 पन्नों के फैसले में अलग से 17 पेज सिर्फ पूर्व वायुसेना प्रमुख एसपी त्यागी के बारे में हैं. अदालत के फैसले के मुताबिक एसपी त्यागी घोटाले का हिस्सा रहे थे. त्यागी 2005 से 2007 तक एयरफोर्स के चीफ थे.

अदालत ने अपने फैसले में कहा है कि त्यागी के परिवार को घूस के पैसे कैश और वायर के जरिए दिए गए. इसमें त्यागी के तीन रिश्तेदार शामिल थे, जिनमें से एक खुद सेना का अधिकारी था.

भारत ने मांगी जानकारी


वहीं इटली की अदालत के फैसले के बाद केंद्र सरकार ने अब रोम में भारतीय दूतावास से इटली के कोर्ट के फैसले की जानकारी मांगी है. 2005 में चॉपर खरीदने के लिए इटली की कंपनी से डील के लिए बातचीत शुरू हुई थी.

2010 में यूपीए-2 के कार्यकाल के दौरान इटली की कंपनी फिनमेकैनिका कंपनी से 12 अगस्ता वेस्टलैंड हेलीकॉप्टर खरीदने के लिए 3600 करोड़ में सौदा हुआ था. तीन हेलीकॉप्टर की आपूर्ति की जा चुकी थी और 30 फीसदी रकम का भुगतान हुआ था. 

इस मामले में 362 करोड़ रुपये रिश्वत देने का आरोप लगा था. जिसके बाद यूपीए सरकार ने डील रद्द कर दी थी. इस मामले में पूर्व वायुसेनाध्यक्ष एसपी त्यागी समेत 13 लोगों पर केस दर्ज किया गया था.

कांग्रेस को घेरने की तैयारी


वहीं अदालत के फैसले पर पूर्व रक्षा मंत्री ए के एंटनी का कहना है कि वर्तमान सरकार को सीबीआई जांच में तेजी लानी चाहिए और सच को सबके सामने रखना चाहिए.

एंटनी ने ये भी कहा कि उन्होंने इटली की अदालत में केस लड़ा और सारे पैसे वापस हासिल कर लिए, जो इस डील के लिए दिए गए थे.

Antony

दूसरी ओर कांग्रेस को इस मामले में घेरते हुए बीजेपी ने निशाना साधा है. केंद्रीय दूरसंचार मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि पूर्व रक्षा मंत्री एके एंटनी को इस मामले में तथ्यों को सामने रखना चाहिए.

रविशंकर प्रसाद ने कहा, "2013 में एंटनी ने ही कहा था कि इस सौदे में भ्रष्टाचार हुआ है और पैसे का लेन-देन भी किया गया. अब वो बताएं कि क्या कांग्रेस का कोई नेता भ्रष्टाचार में शामिल था."

Antony2

First published: 1 May 2016, 12:21 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी