Home » इंडिया » AgustaWestland: why ED has called ex-IAF chief SP Tyagi for questioning
 

अगस्ता वेस्टलैंड घोटाला: पूर्व एयरफोर्स चीफ एसपी त्यागी को ईडी का समन

सादिक़ नक़वी | Updated on: 1 May 2016, 22:23 IST
QUICK PILL
  • अगस्ता वेस्टलैंड मामले में ईडी ने पूर्व एयरफोर्स चीफ एसपी त्यागी और उनके भतीजे संजीव, राजीव और संदीप त्यागी को पूछताछ के लिए बुलाया है. हालांकि उनसे पूछताछ किस दिन होगी, यह अभी साफ नहीं है.
  • ईडी के सूत्रों के मुताबिक अगस्ता वेस्टलैंड घूसखोरी की जांच कर रही एजेंसी की तरफ से फिलहाल त्यागी बंधुओं को गिरफ्तार किए जाने की योजना नहीं है.

प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने पूर्व एयरफोर्स चीफ एसपी त्यागी और उनके भतीजे संजीव, राजीव और संदीप त्यागी को अगस्ता वेस्टलैंड घोटाला मामले में पूछताछ के लिए नोटिस भेजा है. एजेंसी के सूत्र की माने तो इन्हें गिरफ्तार किए जाने की संभावना नहीं है.

अधिकारी ने कहा, 'इससे पहले के कुछ मामलों में समय पूर्व गिरफ्तारी से जांच को मदद नहीं मिली है.' एजेंसी ने हालांकि यह नहीं बताया कि त्यागी को कब ईडी के समक्ष पेश होने के लिए कहा गया है ताकि मीडिया की गहमा गहमी से बचा जा सके.

ईडी को लगता है कि एसपी त्यागी अगस्ता वेस्टलैंड हेलिकॉप्टर डील में ठेके की शर्तों में हेरफेर करने में शामिल रहे हैं. पूर्व एयरफोर्स चीफ अपने भतीजों के लिए काम कर रहे थे जिन्हें कॉलो गेरोसा और गिडो रॉल्फ हैश्के से घूस मिली थी. यह दोनों इटली की हेलीकॉप्टर कंपनी के लिए काम करने वाले बिचौलिए थे.

ईडी ने हालांकि यह नहीं बताया कि त्यागी को कब ईडी के समक्ष पेश होने के लिए कहा गया है

ईडी के मुताबिक त्यागी हैश्के और गेरोसा से लंबे समय से जुड़े रहे हैं. दोनों भाइयों ने गॉर्डियन सेरी की मदद से कंसल्टेंसी कॉन्ट्रैक्ट किया हुआ था. यह कंपनी ट्यूनीशिया की थी जिसका नियंत्रण गेरोसा के हाथों में था. तीनों भाइयों को मई 2004 में 1,26,000 यूरो जबकि फरवरी 2005 में 2,00,000 यूरो बतौर कंसल्टेंसी फीस मिली.

प्रिवेंशन ऑफ मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट के तहत दर्ज शिकायत में कहा गया है कि त्यागी ने हैश्के और गेरोसा से नकद में भी रुपये लिए. इसमें पूर्व एयरफोर्स चीफ त्यागी भी शामिल थे. 

सूत्रों ने कहा कि ईडी के पास लेन-देन की जानकारी है. अधिकारी ने कहा, 'यही वजह है कि हमने गौतम खेतान जैसे आदमी को गिरफ्तार किया है.'

खेतान पेशे से वकील हैं और माना जा रहा है कि उन्होंने इस सौदे में दलाल की भूमिका निभाई. खेतान को 23 सितंबरर 2014 को गिरफ्तार किया गया. खेतान ने मॉरीशस और ट्यूनीशिया में फर्जी कंपनी बनाकर रिश्वत की रकम को इधर से उधर किया.

जांच बताती है कि कई अलग-अलग देशों में अलग-अलग कंपनियां बनाकर इस काम को अंजाम दिया गया.

संदेहास्पद सौदेबाजी

पैसे को कई जटिल नेटवर्क से घुमाया गया और फिर इसे खेतान की मदद से भारत लाया गया. आईसीआईसीआई बैंक ने 20 जुलाई 2009 को 99,963 यूरो और 14 अक्टूबर को 2,49,883 यूरो, 7 नवंबर को 2,19,890 जबकि 21 दिसंबर को 2,19,890 यूरो बतौर एफडीआई आने की पुष्टि की है. 

यह रकम जेपी मॉर्गन एजी, फ्रैंकफर्ट की तरफ से बतौर इक्विटी आई. यही रकम जर्मनी में एमएस इन्फोटेक डिजाइन सिस्टम की तरफ से प्राप्त की गई. कंपनी का पता एमएमल एडमिनिस्ट्रेटर्स से मिलता है और यह दोनों के बीच संबंधों की पुष्टि करता है.

अगस्ता वेस्टलैंड का आईडी इंफोटेक इंडिया के साथ करार था ताकि वह आईटी सेवा मुहैया करा सके. इसके लिए कंपनी प्रति घंटे 19 यूरो का भुगतान करती. आईडीएस के ट्यूनीशिया में गठन के बाद इसी काम के लिए प्रति घंटे 34 यूरो का बिल बनाया गया और इस दौरान कुल घंटे 15,000 घंटे दिखाए गए. साफ तौर पर ट्यूनीशिया की कंपनी बिल बनाने के लिए बनाई गई थी.

ईडी के सूत्र के मुताबिक कंपनी ने अगस्ता वेस्टलैंड से कुल 2.40 करोड़ यूरो लिए. इसमें से 38.8 लाख यूरो एयरोमैट्रिक्स और 18.8 लाख यूरो आईडीएस इंफोटेक को दिया गया. बाकी की रकम मनी लॉन्ड्रिंग के तहत इधर से उधर हुई जिसकी जांच एजेंसी कर रही है. अधिकारी ने बताया, 'पूरी लेन-देन को सुलझाने में तीन से चार महीनों का समय लग जाएगा.' उन्होंने कहा कि अगस्ता वेस्टलैंड मामले को सुलझाने में काफी वक्त लगेगा.

ईडी ने खेतान, उनकी पत्नी रितु और एयरोमैट्रिक्स की 3.7 करोड़ रुपये की संपत्ति को जब्त किया है

खेतान के जब्त दस्तावेजों में अगस्ता वेस्टलैंड से मिले पैसों का जिक्र है. इसमें आईडीएस ट्यूनीशिया को हर महीने हुए 5,10,000 यूरो की रकम का जिक्र है. इसमें ब्रदर्स के नाम के आगे 270 लिखा है. खेतान ने जांच अधिकारियों को बताया कि यह त्यागी बंधुओं के बारे में है.

ईडी ने खेतान, उनकी पत्नी रितु और एयरोमैट्रिक्स की 3.7 करोड़ रुपये की संपत्ति को जब्त किया है. ईडी ने त्यागी बंधुओं की 6.6 करोड़ रुपये की संपत्ति को भी जब्त किया है. एजेंसी के पास अब मीडिया एक्जिम की 1.1 करोड़ रुपये की संपत्ति जब्त करने का ऑर्डर भी है. यह कंपनी क्रिस्चियन माइकल जेम्स की है जो अगस्ता वेस्टलैंड मामले में संदिग्ध दलाल है.

इस बीच ईडी इटली, स्विट्जरलैंड, सिंगापुर, फिनलैंड और इस्राइल को लिखे पत्र का इंतजार कर रही है. ईडी ने हैश्के, गेरोसा और क्रिस्चियन माइकल के खिलाफ रेड कॉर्नर नोटिस जारी कर रखा है. एजेंसी ने ब्रिटेन से माइकल को प्रत्यपित करने के लिए भी आवेदन दे रखा है.

First published: 1 May 2016, 22:23 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी