Home » इंडिया » Ahmedabad boy who scored 99.99 percentile in class 12 to take Diksha jain monk
 

जानें क्यों 12वीं का टॅापर वर्शील लेने जा रहा है संन्यास?

कैच ब्यूरो | Updated on: 7 June 2017, 15:19 IST

गुजरात के सूरत में रहने वाले 17 साल के वर्शील शाह ने 12वीं में 99.99 प्रतिशत नंबर पाकर इतिहास रच दिया है. आपको जानकर हैरानी होगी कि इतने अच्छे नंबर पाने के बावजूद भी वर्शील ने संन्यास लेने का फैसला किया है.

जी हां, एक तरफ़ जहां इतने अच्छे नंबर पाने के बाद बच्चे अपने माता-पिता महंगे-महंगे गिफ्ट मांगते हैं, वहीं दर्शील ने उनसे तोहफे में संन्यासी का जीवन जीने की इजाजत मांगी. हैरानी की बात ये है कि माता-पिता ने उन्हें आसानी से इसकी इजाजत दे भी दी. पूरा परिवार वर्शील के दीक्षा समारोह की तैयारियों में जुटा है, जो 8 जून गुरुवार को सूरत में होगा.

वर्शील के पिता जिगर शाह इनकम टैक्स डिपार्टमेंट में इंस्पेक्टर है. जिगर कहते हैं कि उनका परिवार शुरू से ही अध्यात्म की तरफ अधिक झुकाव रहा. जिगर कहते हैं, "मेरी पत्नी अमी बहुत ज्यादा धार्मिक स्वभाव की है और मेरे बच्चे वर्शील और उसकी बहन का भी धर्म और अध्यात्म की तरफ झुकाव है. वास्तव में जब वर्शील की स्कूल की छुट्टियां होती थीं, तो कहीं घूमने जाने की बजाए वह सत्संग में जाना पसंद करता था."

वर्शील दुनिया की किसी भी बड़ी यूनिवर्सिटी में दाखिला ले सकता है. डॉक्टर, इंजीनियर,चार्टर्ड अकाउंटेंट कुछ भी बन सकता है, लेकिन वर्शील ने इन सब ऐशोआराम को छोड़ संसार त्यागने का फैसला किया, जो काफी हैरान कर देने वाला है. इतने अच्छे नंबर लाने के बावजूद वर्शील ने अब तक स्कूल से अपनी मार्कशीट तक नहीं ली है.

वर्शील का पूरा परिवार बहुत साधारण जीवन जीता है. उनके घर में भी ऐशोआराम वाली ज्यादा चीजें नहीं हैं. हालांकि वर्शील के माता-पिता अपने बेटे के फैसले से थोड़े उदास जरूर हैं, लेकिन उसकी इच्छा का समर्थन कर खुश भी हैं.

First published: 7 June 2017, 15:19 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी