Home » इंडिया » AIIMS Delhi faculty form seeks caste and religion data of senior doctors
 

दिल्ली AIIMS के डॉक्टरों से मांगी जा रही है जाति-धर्म की जानकारी, विरोध शुरू

कैच ब्यूरो | Updated on: 28 January 2019, 11:03 IST

दिल्ली के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIIMS) के डॉक्टरों से उनकी जाति- धर्म की जानकारी  देने को कहा गया है. AIIMS के निदेशक सहित वरिष्ठ डॉक्टरों ने इस कदम को हैरान करने वाला बताया है. इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार इस जानकारी के लिए को देने को लिए बीते सप्ताह डॉक्टरों को एक फॉर्म वितरित किया गया था.

पिछले सप्ताह AIIMS संकाय सेल द्वारा वितरित किया गया एक पेज का फॉर्म "सभी वरिष्ठ डॉक्टरों का एक डेटाबेस" बनाने के उद्देश्य से है. इसमें नाम और उम्र के अलाव वेतन और नियुक्ति से संबंधित जानकारियां देने को कहा गया हैं. इंडियन एक्सप्रेस के अनुसार एम्स-दिल्ली के निदेशक डॉ रणदीप गुलेरिया ने कहा कि वह इस तरह के वितरण से वह अनजान हैं.

 

गुलेरिया ने कहा “किसी भी वरिष्ठ चिकित्सक से कभी भी उसकी जाति और धर्म के बारे में नहीं पूछा जाता है. मैंने फॉर्म नहीं देखा है, लेकिन फिर भी इसका कोई मतलब नहीं है. हम एम्स में, किसी भी डॉक्टर की जाति और धर्म के बारे में परेशान नहीं हैं और इन बातों को पूछना उचित नहीं है. ” उन्होंने कहा “यह चौंकाने वाला है. वे अस्पताल में कार्यरत किसी भी डॉक्टर की जाति और धर्म के बारे में क्यों बात करना चाहते हैं? प्रवेश परीक्षाओं के दौरान भी छात्र ऐसे प्रश्नों पर आपत्ति करते हैं.“

एम्स के पूर्व निदेशक डॉ. एम. सी. मिश्रा ने कहा कि उन्होंने डॉक्टरों से इस तरह का सवाल कभी नहीं सुना है. उन्होंने कहा "एम्स जैसे संस्थानों में हमें इस जनसांख्यिकी के बारे में बात करने से दूर रहना चाहिए." AIIMS फैकल्टी सेल, जो संकाय से संबंधित प्रशासनिक कार्य के लिए जिम्मेदार है, ने दावा किया कि प्रश्न गलती से जोड़ा गया" था.

इस मामले में संजय आर्य AIIMS के एक अधिकारी ने अख़बार को बताया कि सभी वरिष्ठ डॉक्टरों का एक डेटाबेस तैयार करने के लिए फॉर्म भेजे थे. उनकी जाति और धर्म के बारे में विवरण होने की आवश्यकता नहीं है. फॉर्म में गलती से प्रश्न जोड़ा गया था. मैं इसे जल्द ही ठीक करवाऊंगा.”

 

First published: 28 January 2019, 11:03 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी