Home » इंडिया » Air Chief Marshal alerts air force officers be ready for operations at short notice
 

IAF चीफ की चिट्ठी- ऑपरेशन के लिए हो जाओ तैयार

कैच ब्यूरो | Updated on: 20 May 2017, 14:45 IST
बीएस धनोआ/ फाइल फोटो

एयर चीफ मार्शल बीएस धनोआ ने वायुसेना के 12 हजार अफसरों को चिट्ठी लिखकर शॉर्ट नोटिस पर ऑपरेशन के लिए तैयार रहने को कहा है. अंग्रेजी अखबार इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक धनोआ ने भारतीय वायुसेना के सभी अधिकारियों को संबोधित अपनी चिट्ठी में एयर फोर्स के पास संसाधनों की कमी की तरफ संकेत किया है.

अंग्रेजी अखबार की रिपोर्ट के मुताबिक धनोआ के वायुसेना प्रमुख की कमान संभालने के तीन महीने बाद 30 मार्च को लिखा गया यह खत सभी अफसरों को भेजा गया है. यह पहली बार है कि किसी वायुसेना चीफ ने निजी तौर पर सभी अफसरों को इस तरह का खत लिखा है. इससे पहले दो आर्मी चीफ फील्ड मार्शल केएम करियप्पा (1 मई 1951) और जनरल के सुंदरजी (1 फरवरी 1986) ने इस तरह का खत लिखा था.

धनोआ ने अपने खत में वायुसेना के भीतर 'पक्षपात' और 'यौन शोषण' के मामलों की बात भी की है. वायुसेना प्रमुख ने अपने खत में लिखा, "मौजूदा हालात में, हमेशा से जारी खतरे (Sub Conventional Threat) की आशंका बढ़ गई है. इसलिए हमें मौजूदा संसाधनों के साथ बेहद शॉर्ट नोटिस पर बड़े ऑपरेशन के लिए तैयार रहने की ज़रूरत है. हमारा ट्रेनिंग प्रोग्राम इसे ही ध्यान में रखकर चलाया जाना चाहिए."

एयर चीफ मार्शल बीएस धनोआ

पाक के प्रॉक्सी वॉर की ओर इशारा

माना जा रहा है कि इस खत के जरिए धनोआ ने पाकिस्तान के चलाए छद्म युद्ध की तरफ इशारा किया है. जम्मू-कश्मीर में हिंसक विरोध प्रदर्शन की घटनाएं और सैन्य कैंपों पर आतंकी हमले बढ़ते जा रहे हैं. 

इसके अलावा एयर चीफ मार्शल ने 'मौजूदा संसाधनों' (our present holdings) के जरिए वायुसेना में 'लड़ाकू बेड़े' की कमी की तरफ संकेत किया है. वायुसेना अपने पास लड़ाकू विमानों की 42 स्क्वाड्रन रखने के लिए अधिकृत है, जबकि उसके पास अभी केवल 33 स्क्वाड्रन ही मौजूद हैं. 

धनोआ ने अपने खत में लिखा, "अपनी और अपने दुश्मन की नई एडवांस तकनीक के बारे में होशियार रहने के अलावा हमारे पास कोई विकल्प नहीं है. तभी हम युद्ध में विजय जैसी स्थिति के साथ आगे बढ़ेंगे." 

'पक्षपात बिल्कुल बर्दाश्त नहीं'

एयर चीफ मार्शल ने अपने खत में कथित पक्षपात के बारे में लिखा, "प्रमुख अभियान और प्रमोशन में अफसरों के चयन को लेकर हमने पक्षपात किए जाने के कुछ मामले देखे हैं. ये ऐसी चीज है जिसे हम बिल्कुल बर्दाश्त नहीं कर सकते." 

यौन शोषण के मामलों को लेकर वायुसेना प्रमुख ने चिट्ठी में चेतावनी देते हुए लिखा, "वरिष्ठ अधिकारियों द्वारा गाली-गलौच, शारीरिक हमला और यौन शोषण किसी भी सूरत में स्वीकार्य नहीं है."

First published: 20 May 2017, 14:32 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी