Home » इंडिया » Air Strike: India Russia may sign nuclear submarine deal on this week
 

अब समुद्र में चलेगी भारत की तानाशाही, रूस से मिली इस टेक्नोलॉजी के आगे पानी मांगेंगे चीन और पाकिस्तान

कैच ब्यूरो | Updated on: 4 March 2019, 18:23 IST

पाकिस्तान से तनाव के बीच भारत रूस के साथ इस हफ्ते 3 अरब डॉलर यानि 21.24 हजार करोड़ रुपए का डिफेंस डील करने जा रहा है. इस डील से समुद्र में भारत की ताकत में इजाफा होगा. डील के तहत भारत रूस से एक और न्यूक्लियर अटैक सबमरीन लीज पर लेगा.

इन अकुला क्लास सबमरीन को चक्र III नाम दिया गया है. यहां आने के बाद चक्र III सबमरीन को भारत की जरूरतों के मुताबिक बदला जाएगा. इसमें भारत में बनाई गई संचार प्रणाली और सेंसर लगाए जाएंगे. इसका मुकाबला न तो चीन कर पाएगा न ही पाकिस्तान. प्रहार करने की क्षमता के मामले में अकुला क्लास सबमरीन से आगे केवल अमेरिकी परमाणु पनडुब्बियां हैं.

बता दें कि इससे पहले इसी तरह की दो सबमरीन रूस से भारत को मिली थीं. भारत को उसकी पहले न्यूक्लियर आर्म्ड सबमरीन INS अरिहंत मिली थी. इसे रूस के द्वारा विशाखापट्टनम में बनाया गया था.

रूस से पिछले साल एस 400 एयर डिफेंस सिस्टम के लिए 5.5 अरब के कॉन्ट्रैक्ट के बाद यह रूस के साथ सबसे बड़ी डील होगी. इस परमाणु पनडुब्बी की सबसे खास बात है कि यह लंबे समय तक पानी के नीचे रह सकती है. इसे डिटेक्ट कर पाना लगभग नामुमकिन होता है.

Economic Times की खबर के अनुसार, यह इंटर-गवर्नमेंटल डील 7 मार्च को साइन होने की संभावना है. इस पर रूसी शिपयार्ड में काम किया जाएगा. यह 2025 तक तैयार हो जाएगी. इसमें भारतीय कम्युनिकेशन सिस्टम और सेंसर फिट किया जाएगा. 

बता दें कि साल 2012 में मिली चक्र II की लीज 2022 में खत्म होने वाली है, वहीं चक्र III 2025 तक बनकर तैयार हो पाएगी. इस वजह से चक्र II के लीज की अवधि पांच साल बढ़ाई जा सकती है, जिससे कि तब तक नई पनडुब्बी तैयार हो जाएगी और उसका परीक्षण कर लिया जाएगा.

पढ़ें- पाकिस्तानी पत्रकार ने खोल दी इमरान खान के झूठ की पोल, बताया- पाक सेना ने किया था F-16 से हमला

First published: 4 March 2019, 18:10 IST
 
अगली कहानी