Home » इंडिया » Air Strike Indian Air Force Used Computer Memories of Precision Guided Bombs on Jaish E Mohammad
 

Air Strike: वायुसेना के लड़ाकू विमानों ने जैश के ठिकानों को ऐसे किया नष्ट, सामने आई ये जानकारी

कैच ब्यूरो | Updated on: 3 March 2019, 12:11 IST
(File Photo/Mirage)

पुलवामा आतंकी हमले का बदला लेने के लिए जब भारतीय वायुसेना ने Pok में एयर स्ट्राइक किया तो दुश्मन के ठिकानों को ताश की पत्तों की तरह बिखेर दिया. वायुसेना ने बालाकोट में जैश-ए-मोहम्मद के ठिकानों को नष्ट कर कई आतंकियों को मौत के घाट उतार दिया. वायुसेना ने पीओके में 26 फरवरी को अपने जंगी लड़ाकू विमानों से जैश के ठिकानों पर हमला बोला उस वक्त दुश्मन चैन की नींद सो रहा था, लेकिन भारतीय वायुसेना का जाबांजों ने दुश्मन की नींद ही नहीं उड़ाई बल्कि होश भी उड़ा दिए और कई आतंकियों को गहरी नींद सुला दिया.

वायुसेना ने ग्वालियर में अपने मिराज-2000 विमानों को स्पाइस-2000 गाइडेड बमों की कंप्यूटर मेमोरी को उपग्रह से प्राप्त तस्वीरों और सटीक भौगोलिक जानकारी से भर दिया था. इस प्रक्रिया का मकसद आतंकी ठिकानों पर सटीक निशाना लगाना था. इसलिए जब मिराज 2000 लड़ाकू विमानों की स्क्रीन पर हथियारों को लांच करने का सिग्नल मिला तो पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर के दो से दस किलोमीटर अदंर से इसे दागने पर इस बात की आशंका बेहद कम था कि एक हजार किलो का यह बम अपने लक्ष्य से कहीं भटक न जाए.

टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक रक्षा मंत्रालय के एक शीर्ष सूत्र ने शनिवार को कहा, "अपनी नेविगेशन/सीक्रेट प्रणाली की मदद से दागे और भूल जाओ स्पाइस-2000 बम 50 से 60 किमी की दूरी से जैश के चार से छह लक्ष्यों तक पहुंच गए. इसमें चूक होने की संभावना 3 मीटर से भी कम होती है."

File Photo/Mirage

उन्होंने बताया कि, हाई रिजोल्यूशन वाले सिंथेटिक अपर्चर रडार (SAR) और सुखोई-30 एमकेआई द्वारा पहले और बाद की ली हुई तस्वीरों से पता चला कि बम ने आतंकी ठिकानों को सटीक ढंग से ध्वस्त करने में कामयाबी हासिल की है. हालांकि जमीन पर कितने लोग मारे गए इसका आंकलन कर पाना संभव नहीं है. सूत्रों ने कहा कि, "डिजिटल सीन मैचिंग एरिया कोरिलेटर्स' से लैस स्पाइस-2000 बम पहले से लक्षित आतंकी ठिकानों की छत को तोड़ते हुए उसके अंदर पहुंचे. जिसने वहां मौजूद सभी आतंकियों को मार गिराया.

File Photo/Mirage

यही नहीं इस दौरान वायुसेना ने पाकिस्तानी वायुसेना को झांसा देने के लिए कुछ विमानों को जेईएम के बहावलपुर स्थित मुख्यालय की ओर उड़ान भरी. जिससे लगे कि हमला वहां पर होने वाला है. इसका नतीजा यह हुआ कि पाकिस्तानी विमान हमले के समय बालाकोट से लगभग 150 किलोमीटर दूरी पर हवाई पेट्रोलिंग कर रहे थे. इस तरह से भारतीय वायुसेना के विमानों ने पीओके के साथ ही पाकिस्तान के अंदर घुसकर हवाई हमला किया.

पाकिस्तान ने फिर दिखाई भारत को घुड़की, 'एयरस्पेस' देने से किया इंकार

First published: 3 March 2019, 12:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी