Home » इंडिया » Akhilesh Yadav and shivpal sing yadav come together after tension akhilesh give ticket to shivpal rajysabha
 

फिर साथ आए चाचा-भतीजा, शिवपाल को राज्यसभा भेजेंगे अखिलेश यादव

कैच ब्यूरो | Updated on: 14 March 2018, 8:44 IST

समाजवादी पार्टी में कुछ समय से कलह की बात सामने आए रही थी. जिसमे सपा प्रमुख अखिलेश और शिवपाल यादव के बीच तनाव की ख़बरें थी. लेकिन बीटेकुछ समय से दोनों की ये दूरियां खत्म होती नजर आ रही है. होली के उत्सव में भी सैफई में अखिलेश ने चाचा शिवपाल का आशीर्वाद लिया. ऐसी खबरें तब से ही आनी शुरू हो गयी थीं की दोनों के बीच की दूरियां खत्म हो सकती हैं. अब सपा मुखिया अखिलेश ने नेता शिवपाल के संग बढे तनाव को खत्म करने की पहल कर दी है.

समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव ने कहा है कि वह साल 2022 में अपने चाचा शिवपाल यादव को राज्यसभा भेंजेगे. उनका यह बयान पार्टी और परिवार में चल रही कलह को खत्म करने की दिशा में बढ़ाया गया कदम माना जा रहा है. हालांकि, उन्होंने दावा किया है कि उनके परिवार में कोई झड़गा नहीं है, उनका परिवार नहीं टूटा है. वहीं मुख्यमंत्री योगी के एक बयान पर उन्होंने कहा कि बीजेपी यह तय नहीं करेगी कि मैं किस भगवान की पूजा करूं और किसकी नहीं.

 

सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने घर में चल रहे विवाद और परिवार टूटने पर किए सवाल पर कहा कि किसी का भी परिवार नहीं टूटना चाहिए, हमारा परिवार भी नहीं टूटा है. अखिलेश ने कहा कि कुर्सी थी तो झगड़ा था. अब कुर्सी नहीं तो कोई झगड़ा नहीं. शिवपाल को लेकर किए सवाल पर उन्होंने कहा कि कोई मनमुटाव नहीं है, हम होली पर मिले थे. मैंने उनके पैर छुए और उन्होंने मुझे आशीर्वाद दिया.

शिवपाल को राज्यसभा नहीं भेजे जाने पर किए सवाल पर अखिलेश ने कहा कि चाचा विधायक हैं, फिर उस सीट पर चुनाव हो यह ठीक नहीं लेकिन मैं आप सबको यकीन दिलाता हूं कि 2022 में चाचा शिवपाल सिंह यादव को मैं राज्यसभा का टिकट दे दूंगा. वह राज्यसभा में रहेंगे तो काफी चीजें बेहतर हो जाएंगी.

ये भी पढ़ें- जया बच्चन ने नरेश अग्रवाल की टिप्पणी पर कही ये बड़ी बात

'हिंदू हूं और इस पर गर्व भी है'
एसपी अध्यक्ष ने कहा कि नेता जी ने मुझे किसी भरोसे से ही मुख्यमंत्री बनाया. क्या मैं खरा नहीं उतरा? नेता जी ने मुझे जो आदेश दिया और मैंने पूरा किया. 23 महीने में एक्सप्रेस-वे बनवाकर नेता जी से उद्घाटन करवाया, जहां लड़ाकू विमान भी उतर सकते हैं. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के ‘हिन्दू हूं और ईद नहीं मनाने’ वाले बयान पर किए सवाल पर अखिलेश ने कहा कि मैं हिंदू हूं लेकिन बैकवर्ड हिंदू हूं और इसका मुझे गर्व है. मैं भी व्रत रखता हूं लेकिन कभी इसका प्रचार नहीं करता. उन्होंने कहा कि बीजेपी यह तय नहीं करेगी कि मैं किस भगवान की पूजा करूं और किसकी नहीं. इस बार मैं भी नवरात्रि का व्रत रखूंगा और फोटो भी ट्वीट करूंगा.

First published: 14 March 2018, 8:40 IST
 
अगली कहानी