Home » इंडिया » Akhilesh Yadav replies governor ram naik for writes letter to cm yogi adityanath to take action against him
 

बंगला विवाद: प्रेस कांफ्रेंस में टोटी लेकर पहुंचे अखिलेश, बोले- हम लैपटॉप बांटते हैं वो टोटीचोर कहते हैं

कैच ब्यूरो | Updated on: 13 June 2018, 13:26 IST

यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने सरकारी बंगले में तोड़फोड़ के विवाद के बीच प्रेस कांफ्रेंस की. इस प्रेस कांफ्रेंस में अखिलेश यादव टोटी लेकर पहुंच गए. यह देख सभी हैरान रह गए. उन्होंने कहा कि जो टोटी गायब मिली है वही लौटाने आए हैं. अखिलेश ने ये भी कहा कि सीएम आवास में भी बहुत सारे मेरे सामान हैं, वो सब सीएम साहब लौटा दें.

अखिलेश ने यूपी के राज्यपाल राम नाईक पर भी जमकर हमला बोला. उन्होंने कहा कि उनके भीतर आरएसएस की आत्मा है. अखिलेश ने योगी सरकार पर बदले की राजनीति का आरोप लगाया. इशारों-इशारों में सरकारी अधिकारियों की खिंचाई भी की.

अखिलेश ने कहा कि उस बंगले को मैंने अपनी पसंद से बनवाया था. आज भी वहां पर जो वुडेन फ्लोरिंग लगी है, मंदिर है और अन्य चीजें हैं, मैंने अपने पैसे से लगवाई हैं. उन्होंने कहा कि उनके द्वारा बंगला खाली करने के बाद सीएम योगी के ओएसडी अभिषेक और आईएएस अफसर मृत्युंजय नारायण वहां गए थे. मैं पूछना चाहता हूं कि वह क्या करने गए थे? ये लोग फोटोग्राफर लेकर गए थे.

उन्होंने कहा कि एक टूटे हुए कोने की तस्वीर इस तरह से खींची गई कि लगे कि पूरा बंगला ही खराब कर दिया गया. लोग प्यार में अंधे होते होंगे पर जलन और नफरत में अंधे होते हैं ये मैंने देखा है. टोटी कौन तोड़ता है. अफीमची या भांग खाने वाला. वह अफीमची कौन था, जो टोटी तोड़ने गया.

अखिलेश यादव ने इसे गोरखपुर, फूलपुर और कैराना की हार का बदला बताया. उन्होंने कहा कि जो मेरी चीज थी, वह मैं लेकर गया. अगर सरकारी दस्तावेज में ये सभी चीजें दर्ज हैं तो मुझे दिखाएं.

उन्होंने मीडिया पर तंज करते हुए कहा कि कम से कम जो सही था वही दिखाते. मीडिया ने खबर बना दी कि पूल में मिट्टी डाल दी गई. मेरे घर में पिछले सवा साल में एक हजार बच्चे आए होंगे. उन सबसे पूछो कि कहां है स्वीमिंग पूल. जो स्वीमिंग पूल है ही नहीं, उस पर खबर बना दी गई कि पूल पर मिट्टी डाल दी गई.

बता दें कि यूपी के राज्यपाल राम नाईक प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के 4 विक्रमादित्य मार्ग स्थित सरकारी बंगला छोड़ने से पूर्व उसमें की गई तोड़फोड़ पर भड़के हुए हैं. उन्होंने इसे गंभीर मामला बताते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पत्र लिखकर कार्रवाई की मांग की है.

पढ़ें- गौरी लंकेश मर्डर : कर्नाटक पुलिस ने एक और संदिग्ध को किया गिरफ्तार

राज्यपाल राम नाईक ने सोमवार 11 जून को यूपी सरकार से पत्र लिखकर कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को आवंटित सरकारी बंगले में तोड़फोड़ के मामले में कड़ी कार्रवाई की जाए. राज्यपाल ने कहा कि आवंटित आवास खाली किए जाने से पहले उसमें की गई तोड़फोड़ का मामला अनुचित और गंभीर है.

वहीं दो दिन पहले अखिलेश यादव ने यूपी में गठबंधन को लेकर कहा था कि हमारा बसपा के साथ गठबंधन है और यह जारी रहेगा. उन्होंने कहा था कि भाजपा को हराने के लिए अगर 2-4 सीटों का बलिदान भी करना पड़ा तो हम पीछे नहीं हटेंगे. 

इस पर भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता संबित पात्रा ने चुटकी लेते हुए ट्वीट कर कहा था कि जो बंगले के टाइल, एसी, टोंटी और पाइप नहीं छोड़ पा रहे हैं वे लोकसभा का सीट छोड़ देंगे? क्या मज़ाक करते हैं!!

First published: 13 June 2018, 13:13 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी