Home » इंडिया » Akhilesh Yadav speaks about Samajwadi Party and BSP alliance and Mayawati honour
 

गठबंधन टूटा तो आहत हुए अखिलेश यादव, मायावती के सम्मान को लेकर कह दी ये बात

कैच ब्यूरो | Updated on: 5 June 2019, 18:09 IST

सपा सुप्रीमो अखिलेश यादव बीएसपी अध्यक्ष मायावती द्वारा विधानसभा उपचुनाव में अकेले लड़ने के फैसले से बहुत आहत हुए हैं. अखिलेश ने कहा कि गठबंधन एक प्रयोग था जो फेल हो गया. गठबंधन ने हमारी कमजोरियों को उजागर किया है. भविष्य में इससे सावधान रहने की बात करते हुए उन्होंने कहा कि वह अपनी पार्टी के साथ इस मुद्दे पर चर्चा करेंगे.

सपा सुप्रीमो ने आगे कहा कि वह विज्ञान के छात्र रहे हैं और वहां प्रयोग होते हैं. कई बार प्रयोग विफल हो जाते हैं. आप तब महसूस करते हैं कि कमी कहां थी. अखिलेश ने कहा कि मैं आज भी कहूंगा और गठबंधन करते समय भी मैंने कहा था कि 'मायावती जी का सम्मान मेरा सम्मान है.'

अखिलेश ने कहा, "अगर हमें विधानसभा उपचुनाव में अकेले लड़ना है, तो पार्टी के नेताओं से भविष्य की रणनीति के लिए सलाह लूंगा." दरअसल 11 विधानसभा सीटों पर होने वाले उपचुनाव को लेकर सपा-बसपा गठबंधन टूट गया है. मायावती ने विधानसभा उपचुनाव में अकेले लड़ने का फैसला किया है.

मायावती ने लोकसभा चुनाव में मनमाफिक परिणाम नहीं आने का ठीकरा अखिलेश यादव और समाजवादी पार्टी पर फोड़ा. लोकसभा चुनाव से पहले यूपी में महागठबंधन हुआ था. सपा-बसपा के अलावा इस गठबधन में आरएलडी भी शामिल था. लोकसभा चुनाव में दोनों ने मिलकर पीएम मोदी और बीजेपी के खिलाफ जोर-शोर से चुनाव लड़ा था हालांकि चुनाव में यह गठबंधन फेल हो गया.

लोकसभा चुनाव में गठबंधन को महज 15 सीटों पर ही जीत हासिल हुई. इसमें बसपा को 10 और सपा को मात्र 5 सीटों पर ही जीत से संतोष करना पड़ा. वहीं बीजेपी ने महागठबंधन को पटखनी देते हुए यूपी की 80 में से 64 सीटों पर जीत हासिल कर ली. यूपी में भी मोदी लहर जमकर चला.

World Cup 2019: SA के खिलाफ टीम इंडिया मैदान पर, PM मोदी ने ऐसा ट्वीट कर जीत लिया दिल

मोदी राज में बेरोजगारों के जल्द आ सकते हैं अच्छे दिन, देश भर में रोजगार सर्वे कराएगी सरकार

First published: 5 June 2019, 18:09 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी