Home » इंडिया » All VVPATs machines will be procured before 2019 Lok Sabha elections: Election Commission
 

चुनाव आयोग की सफाई- 2019 के लोकसभा चुनाव तक तैयार हो जाएंगी सभी VVPAT मशीनें

कैच ब्यूरो | Updated on: 25 July 2018, 17:23 IST

भारत के निर्वाचन आयोग ने मंगलवार को कहा कि साल 2019 के लोकसभा चुनावों से पहले सभी वीवीपीएटी मशीनों को तैयार कर लिया जायेगा. चुनाव आयोग की ओर से यह सफाई उस खबर के बाद आयी जिसमे कहा गया था कि चुनाव आयोग अगले साल होने वाले लोकसभा चुनावों के लिए 16 लाख मतदाता-सत्यापन योग्य पेपर ऑडिट ट्रेल वीवीपीएटी मशीनों की खरीद के लिए सुप्रीम कोर्ट को दी गई समय सीमा तक पूरा करने के लिए संघर्ष कर रही है.

आयोग ने कहा कि वह समय-समय पर वीवीपीएटी के उत्पादन और आपूर्ति की स्थिति की समीक्षा कर रहा है. 2019 में लोकसभा चुनावों के लिए सभी मतदान केंद्रों के लिए 16.15 लाख वीवीपीएटी का आदेश दिया था. इससे पहले एक रिपोर्ट में कहा गया था कि 24 अप्रैल 2017 को चुनाव आयोग ने सुप्रीम कोर्ट में एक हलफनामा दायर किया, जिसमें 2019 के आम चुनावों के लिए सभी मतदान केंद्रों में वीवीपीएटी पेश करने का वादा किया गया.

 

यह भी कहा गया था कि दो पीएसयू कंपनियां इसके लिए काम कर रही हैं. इनमे भारत इलेक्ट्रॉनिक लिमिटेड (BEL) बेंगलुरु और इलेक्ट्रॉनिक्स कॉर्पोरेशन ऑफ़ इंडिया लिमिटेड हैदराबाद सितंबर 2018 तक आवश्यक पेपर ट्रेल मशीनों को वितरित करेंगे.

इस साल 19 जून को ईसी ने बीईएल और ईसीआईएल के साथ 16.15 लाख वीवीपीएटी के आदेश दिए जाने के लगभग 14 महीने बाद, मतदान पैनल को 3.48 लाख इकाइयां मिलीं - दूसरे शब्दों में समय सीमा से तीन महीने पहले लक्ष्य का केवल 22 प्रतिशत. शुरुआती आम चुनावों में बहस और अटकलों पर इसका सीधा असर पड़ता है. वीवीपीएटी की संख्याओं में मौजूदा कमी को देखते हुए, लोकसभा चुनावों को चुनौतियों से निपटना होगा.

ये भी पढ़ें : 2019 के लोकसभा चुनाव से पहले VVPAT तैयार करना चुनाव आयोग के लिए बना चुनौती

First published: 25 July 2018, 17:20 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी