Home » इंडिया » Alwar lynching: Rakbar khan died of mob violence not police fault
 

अलवर लिंचिंग: रकबर की मौत पुलिस की गलती से नहीं भीड़ की पिटाई से हुई

कैच ब्यूरो | Updated on: 26 July 2018, 10:56 IST

गोतस्करी के शक में अलवर में रकबर खान की पोस्टमार्टम रिपोर्ट में खुलासा हुआ है कि उसकी मौत में पुलिस का कोई हाथ नहीं है. रकबर की मौत पुलिस हिरासत में नहीं हुई. रिपोर्ट में साफ़ हुआ है कि रकबर के शरीर पर जो चोटें थी वो पोस्टमार्टम के 12 घंटे पहले की है. मतलब इससे साफ़ होता है कि रकबर की मौत भीड़ की पिटाई से लगी चोटों से ही हुई है. पोस्टमार्टम रिपोर्ट में चोटों का जो समय है वो पुलिस हिरासत के पहले की है.

ये भी पढ़ें- रकबर की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में खुलासा- पिटाई से टूटी हड्डियां और पसली

रिपोर्ट के मुताबिक, रकबर का पोस्‍टमॉर्टम दिन में 12:44 पर किया गया.और रिपोर्ट के अनुसार चोटें 12 घंटे पुरानी मतलब रात के 12 बजे के करीब की है. जानकारी के मुताबिक़ पुलिस के पास गोतस्‍कर पकड़े जाने का पहला फोन 12:41 पर आया था. इससे ये साफ़ हो गया कि रकबर की मौत भीड़ की पिटाई से हुई है.इसमें पुलिस का कोई हाथ नहीं है.

ये भी पढ़ें- मॉब लिंचिंग पर बोले योगी आदित्यनाथ, 'जितना इंसान जरूरी है उतनी ही गाय'

क्या है मामला?
राजस्थान के अलवर में गौ-तस्करी के शक में रकबर नाम के युवक की हत्या कर दी गई थी. आरोप है कि भीड़ ने रकबर की हत्या की है. लेकिन इस मामले में अब पुलिस की भूमिका पर सवाल उठ रहे थे. आरोप था कि पुलिस रकबर को अस्पताल ले जाने की बजाय गाय के लिए गाड़ी का इंतजाम कर रही थी.

दरअसल शुक्रवार और शनिवार की रात गो-तस्करी के शक में रकबर और असलम की भीड़ ने पिटाई की थी. इस दौरान असलम भाग निकला था, लेकिन रकबर को भीड़ पीटती रही थी. खबर है कि पुलिस मौके पर पहुंची तो जरूर, लेकिन रकबर को अस्पताल ले जाने की बजाय ढाई घंटे से ज़्यादा समय तक यहां-वहां घुमाती रही. इसके बाद उसे थाने ले गई.

ये भी पढ़ें- मरते समय हुमायूं ने बाबर से कहा था कि भारत में रहना है तो गाय का करो सम्मान- भाजपा अध्यक्ष राजस्थान

आरोप था कि पुलिस जानबूझकर घायल रकबर को सीधे अस्पताल नहीं ले गई. वह उसे यहां-वहां ढाई घंटे से ज़्यादा समय तक घुमाती रही. हालांकि पोस्टमार्टम की रिपोर्ट के बाद अब पुलिस पर लगाए ये आरोप गलत साबित हो गए है.

 

First published: 26 July 2018, 10:56 IST
 
अगली कहानी