Home » इंडिया » amar singh criticises swaroopanand saraswati on mathura incident
 

आखिर क्या है अमर सिंह और शंकराचार्य की बातचीत का राज?

कैच ब्यूरो | Updated on: 13 June 2016, 13:27 IST

समाजवादी पार्टी में दोबारा एंट्री के बाद राज्यसभा सांसद बने अमर सिंह ने सपा का बचाव करते हुए विरोधियों को आड़े हाथों लेना शुरू कर दिया है. उनके निशाने पर शंकराचार्य स्वरूपानंद भी हैं.

रविवार को अमर सिंह ने कहा, "शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती ने मथुरा कांड पर कहा था कि यूपी में यादव की सरकार है और मथुरा कांड का अपराधी भी यादव है. शंकराचार्य ने ऐसा कह कर बहुत ही घृणित बयान दिया है, जिसकी घोर निंदा की जानी चाहिए." 

तीन घंटे वाली बात

अमर सिंह ने परोक्ष तौर पर धमकी भरे लहजे में कहा, "स्वरूपानंद जी आप जहां कहीं भी हों, मुझे क्षमा कीजिए, लेकिन अगर जरूरत पड़ी, तो बद्रीधाम वाली वो 3 घंटे वाली बात सार्वजनिक कर दूंगा."

हालांकि अमर सिंह ने बद्रीनाथ में 3 घंटे क्या बात हुई थी, इसे सार्वजनिक करने से मना कर दिया. अमर सिंह ने कहा कि किसी भी अपराधी की कोई जाति नहीं होती है और यादव होना कोई अपराध नहीं है.

मोदी सरकार पर वार

अमर ने कहा, "मथुरा के जवाहर बाग में मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ और झारखंड से नक्सली आए थे, जिन्होंने उस हिंसा को अंजाम दिया. उत्तर प्रदेश में नक्सली दूसरे राज्यों से आकर घुसपैठ कर रहे थे, लेकिन आईबी को इसकी जानकारी नहीं थी."

अमर सिंह ने मथुरा हिंसा के बाद अखिलेश सरकार पर सवाल उठाने वालों को जवाब देते हुए कहा कि इस मामले में राज्य सरकार नहीं, बल्कि केंद्र सरकार और गृह मंत्रालय दोषी हैं.

First published: 13 June 2016, 13:27 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी