Home » इंडिया » Amarnath yatra 2018: more than 700 pilgrims stuck in baltal route, rescue operation of indian air force start today
 

अमरनाथ यात्रा: 700 से अधिक श्रद्धालु फंसे, वायु सेना की मदद से निकाले जा रहे यात्री

कैच ब्यूरो | Updated on: 7 July 2018, 7:56 IST

अमरनाथ यात्रा मौसम के बार-बार बिगड़ने से बाधित हो रही है. दर्शन के लिए जाने वाले यात्रिओं की मुसीबतें कम नहीं हो रहीं. लगातार बारिश के चलते अमरनाथ यात्रा एक बार फिर से बाधित हो गयी है. बालटाल मार्ग से जाने वाले यात्री अभी तक यात्रा शुरू नहीं कर पाए हैं. बालटाल मार्ग में हुए भूस्खलन के चलते मार्ग को रोक दिया गया है.
साथ ही यात्रा के लिए इस मार्ग को हाई रिस्क जोन में डाल दिया गया है. बालटाल मार्ग से यात्रा करने वाले श्रद्धालुओं को अब पहलगाम की ओर से भेजा जायेगा.

ये भी पढ़ें- अमरनाथ में पहली बार दिखा ऐसा अद्भुत नजारा, पुजारी भी रह गए हैरान

यात्रा में फंसे यात्रिओं के बचाव कार्य के लिए श्री अमरनाथ जी श्राइन बोर्ड के सीईओ उमंग नारुल को राज्यपाल ने निर्देश दिए. जिसके बाद आज सुबह से वायु सेना की मदद से रेस्क्यू ऑपरेशन शुरू कर दिया गया है. यात्रिओं को सुरक्षित बचाने के लिए वायुसेना के 3 एमआई-17 हेलीकॉप्टरों की मदद ली जा रही है.

भारी बारिश के चलते कुछ यात्री पंजतरणी में फंस गए थे जिनको कि सुरक्षित बालटाल बेस कैम्प में पहुंचाया गया है. अभी तक 326 यात्रिओं को रेस्क्यू कर लिया गया है. दूसरी ओर बालटाल में हुए भूस्खलन को साफ करने का कार्य जारी है. मंगलवार को हुए इस भारी भूस्खलन में चार यात्रिओं समेत एक स्थानीय नागरिक की मौत हो गयी थी. इसके अलावा इस आपदा में 10 अन्य लोगों के घायल होने की भी खबर थी जिसके बाद अमरनाथ यात्रा को सुरक्षा कारणों से रोक दिया गया था.

ये भी पढ़ें- रोकनी पड़ी अमरनाथ यात्रा, केवल 1,007 को बाबा बर्फानी ने दिए दर्शन

अमरनाथ यात्रा में इस बार मौसम के कहर के साथ ही बस दुर्घटना ने भी यात्रिओं को हताहत किया. यात्रिओं को लेकर जा रही बस शुक्रवार को दुर्घटनाग्रस्त हो गयी थी जिसमे 2 लोग गंभीर रूप से घायल हुए. ये हादसा श्रीनगर-लेह राष्ट्रीय राजमार्ग पर हुआ था. घायलों को अस्पताल में भर्ती करा दिया गया है.

सुरक्षा के मद्देनज़र बारामुला तक की सभी ट्रेन सेवाएं 7 जुलाई तक के लिए रोक दी गई है.

First published: 7 July 2018, 7:56 IST
 
अगली कहानी