Home » इंडिया » American investments worth trillions waiting for India, says Pompeo
 

अरबों डॉलर का अमेरिकी निवेश कर रहा है भारत का इंतज़ार : माइक पोम्पियो

कैच ब्यूरो | Updated on: 27 June 2019, 9:18 IST

ओसाका में जी -20 मुलाकात से पहले अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने भारत के साथ निवेश से लेकर रोजगार सृजन, डेटा स्थानीयकरण, प्रौद्योगिकी साझेदारी जैसे कई विषयों पर बातचीत की. अमेरिकी विदेश मंत्री ने कहा कि अरबों डॉलर मूल्य का अमेरिकी निवेश भारत की प्रतीक्षा कर रहा है.

पोम्पियो ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और विदेश मंत्री एस जयशंकर के साथ अपनी बैठक के बाद शाम को राजनयिकों और अन्य प्रतिष्ठित मेहमानों की एक सभा को संबोधित करते हुए कहा, “हर महीने दस लाख भारतीय युवा नौकरी के बाजार में प्रवेश करते हैं.

पोम्पियो ने भारत में 5जी प्रक्रिया में अमेरिकी कंपनियों को शामिल करने के लिए पोम्पिओ ने अपनी बात रखी. भारत में 5 जी प्रक्रिया में भाग लेने के लिए पहले ही चीनी कंपनी हुआवेई और ZTE जोर दे रही हैं. अपनी यात्रा के दौरान पोम्पिओ ने इस प्रक्रिया में अमेरिकी कंपनियों को शामिल करने के लिए जोर दिया. अमेरिका पहले ही चीनी कंपनी हुआवेई को जासूसी का आरोप लगाकर बैन कर चुका है.

 

पोम्पिओ ने कहा कि "क्या हम भारत के 5जी नेटवर्क के भविष्य को सुरक्षित और विश्वसनीय रखने के लिए जापान जैसे भागीदारों के साथ साझेदार के रूप में एक साथ काम कर सकते हैं?" उन्होंने कहा, ''मुझे विश्वास है कि हम कर सकते हैं''.

Google, Amazon और Facebook जैसी कंपनियों ने प्रस्तावित डेटा संरक्षण विधेयक की बार-बार आलोचना की है, वर्तमान में इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय द्वारा मसौदा तैयार किया जा रहा है. दूसरी ओर वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय की प्रस्तावित ई-कॉमर्स नीति में विनियामक निरीक्षण और कराधान के मुद्दे भी अमेरिका के अधीन रहे हैं.

मोदी सरकार क्यों लगाना चाहती है अमेज़न-फ्लिपकार्ट की ऑनलाइन छूट पर रोक ?

First published: 27 June 2019, 9:09 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी