Home » इंडिया » Amit Shah can continue handle BJP president post till end of this year
 

अमित शाह साल के अंत तक संभाल सकते हैं बीजेपी की कमान, 13-14 जून को होगी अहम बैठक

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 June 2019, 9:11 IST

अमित शाह के गृह मंत्री बनने के बाद से ही इस बात की चर्चा होने लगी थी कि आखिर अब बीजेपी की कमान कौन संभालेगा. अब इस बात पर अब मुहर लगना बाकी है कि बीजेपी का अध्यक्ष अब कौन होगा. लेकिन ऐसा माना जा रहा है कि इस साल के आखिर तक शाह ही बीजेपी के अध्यक्ष बने रहेंगे.

दरअसल, इस साल तीन राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनावों के मद्देनजर शाह को ही एक बार फिर से बीजेपी की जिम्मेदारी मिल सकती है. क्योंकि अमित शाह की रणनीति से ही बीजेपी ने दूसरी बार केंद्र की सत्ता में वापसी की. यही नहीं जिन राज्यों में बीजेपी कभी सरकार में नहीं आ पाई वहां भी बीजेपी ने भगवा लहराया. जिसका उदाहरण हरियाणा में बनी बीजेपी की खट्टर सरकार है.

इस साल हरियाणा, महाराष्ट्र और झारखंड में विधानसभा चुनाव होने हैं. जिसके लिए बीजेपी ने अभी से तैयारियां शुरु कर दी है. तीनों राज्यों में अभी बीजेपी की सरकार है और बीजेपी हर हाल में इन राज्यों में दोबारा सरकार बनाना चाहती है. क्योंकि पिछले साल हुए तीन राज्यों राजस्थान, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ के विधानसभा चुनाव में बीजेपी को सत्ता गंवानी पड़ी थी, बीजेपी इस गलती को दोबारा दोहराना नहीं चाहती और सत्ता में वापसी चाहती है.

इसके लिए बीजेपी एक बार फिर से अमित शाह के नेतृत्व में विधानसभा चुनाव लड़कर सत्ता में आने की कोशिश करेगी, इसके लिए बीजेपी और संघ के स्तर पर नए सिरे से चर्चा शुरू हो चुकी है.. अगर सहमति बनी तो पार्टी शाह के सहयोग के लिए कार्यकारी अध्यक्ष का चुनाव कर सकती है. इसके लिए शाह ने 13 और 14 जून को सभी राज्यों के संगठन मंत्रियों की अहम बैठक बुलाई है.

संघ सूत्रों के मुताबिक शाह को अध्यक्ष बनाए रखने की चर्चा अभी प्रारंभिक स्तर पर ही है. मगर तीन राज्यों के विधानसभा चुनाव को देखते हुए बीजेपी की कमान फिलहाल शाह का हाथों में रखे रहने दी जा सकती है. इससे पहले शाह को जनवरी में ही अध्यक्ष का कार्यकाल पूरा होने के बाद लोकसभा चुनाव के चलते छह महीने का सेवा विस्तार दिया गया था. उसके बाद जब बीजेपी ने केंद्र की सत्ता में वापसी की तो उन्हें गृह मंत्री बना दिया गया. उसके बाद शाह के सहयोग के लिए पार्टी में कार्यकारी अध्यक्ष भी चुना जा सकता है.

पश्चिम बंगाल हिंसा पर गृह मंत्रालय ने मांगी रिपोर्ट, दोषियों पर कड़ी कार्रवाई के दिए निर्देश

First published: 10 June 2019, 9:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी