Home » इंडिया » Amit Shah attacks congress, Jawaharlal Nehru did not allow Ambedkar to go to Parliament
 

अमित शाह: राहुल के नाना नेहरू ने अंबेडकर को संसद में प्रवेश करने से रोका

पत्रिका ब्यूरो | Updated on: 17 September 2016, 15:15 IST
(पत्रिका)

भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने एक बार फिर देश के पहले प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू पर हमला बोला है. अमित शाह ने शुक्रवार को लखनऊ में कांशीराम स्मृति उपवन में मानवता सद्भाव समारोह को संबोधित करते हुए सपा, बसपा और कांग्रेस पर जमकर निशाना साधा. 

बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने इस दौरान कहा कि कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी के नाना जवाहर लाल नेहरू ने अंबेडकर को संसद में नहीं जाने दिया. शाह ने कहा कि कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी दलितों के हितैषी होने का ड्रामा कर रहे हैं.

'अंबेडकर को नेहरू ने चुनाव हरवाया'

शाह ने सभा के दौरान कहा, "कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी को पता होना चाहिए कि वर्ष 1952-53 में उनके नाना (जवाहर लाल नेहरू) ने चुनाव हरवाकर बाबा साहब को संसद में प्रवेश करने से रोक दिया था. सपा अध्यक्ष मुलायम सिंह यादव और बसपा प्रमुख मायावती को जब जब मौका मिला इन्होंने दलितों का शोषण किया"

बीजेपी अध्यक्ष ने कहा कि देश भर के दलितों, पिछड़ों, शोषितों के आशीर्वाद से नरेंद्र मोदी की सरकार बनी है. अब मोदी सरकार ने पूरा ध्यान दलितों के विकास पर केंद्रित कर दियाा है.

शाह ने साथ ही कहा, "सपा सरकार में दलितों को प्रताड़ित किया जाता है. बहनजी सपा को सत्ता से नहीं हटा सकती, इसलिए यूपी के विकास के लिए भाजपा की सरकार बनाइए."

'भाजपा ने बाबा साहेब को चिरंजीवी बनाया'

अमित शाह ने कहा कि राहुल गांधी कांग्रेस को दलितों का मसीहा बता रहे थे, बहनजी भी चिल्ला रहीं थीं. जबकि, बाबा साहेब से जुड़े सातों स्थलों का विकास नरेंद्र मोदी सरकार ने किया.

बीजेपी अध्यक्ष ने कहा, "बाबा साहेब को चिरंजीवी बनाने का काम भाजपा ने ही किया. जबकि ये लोग केवल दलितों के हितैषी होने का दावा करते हैं. इसके विपरीत तत्कालीन अटल बिहारी वाजपेयी सरकार ने डॉक्टर भीमराव अंबेडकर को न सिर्फ भारत रत्न से नवाजा, बल्कि संसद भवन में बाबा साहब का तैलीय चित्र लगवाया."

शाह ने कहा कि दलितों के प्रति सम्मान की गौरवशाली परंपरा को आगे बढाते हुए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने संसद का एक दिन का विशेष सत्र बुलाकर डॉक्टर अंबेडकर के चित्र वाला सिक्का जारी किया.

समारोह का मकसद बाबा साहेब को पर आजम खान के बयान को लेकर निशाना साधना था. बावजूद इसके राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने मंच से एक बार भी इस मुद्दे का जिक्र नहीं किया और न ही आजम का नाम लिया.

'समाजवादी नहीं सिनेमावादी पार्टी'

प्रदेश भाजपा अध्यक्ष केशव प्रसाद मौर्य ने कहा कि मायावती दलितों के वोट बेच रही थी जिस पर जुगल किशोर ने सवाल उठाया, तो उन्हें किनारे कर दिया गया.

मौर्य ने कहा, "यूपी में भूमाफियाओं की सरकार है. उस सरकार के वरिष्ठ मंत्री आजम खां ने बाबा साहेब को भूमाफिया कहा है. सीएम अखिलेश आजम के साथ खड़े हैं. यहां तक कि दलितों के देवता के अपमान के खिलाफ दलितों की देवी के मुंह से बोल नहीं फूटे."

प्रदेश भाजपा अध्यक्ष ने कहा, "समाजवादी पार्टी सिनेमावादी पार्टी है. मुलायम को कहना चाहिए कि अखिलेश विधानसभा भंग करें. अगर समाजवादी में विवाद होता तो वह चार टुकड़ों में होती. नहीं हुआ इससे साफ है कि जो हो रहा था वह केवल ड्रामा है."

First published: 17 September 2016, 15:15 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी