Home » इंडिया » Amma's b'day: Tattooed arms, obscenely large cake & floating namaskarams
 

बाजुओं पर टैटू, बड़े-बड़े केक, जबर्दस्त रहा अम्मा का 68वां जन्मदिन

श्रिया मोहन | Updated on: 25 February 2016, 13:25 IST
QUICK PILL
  • तमिलनाडु की मुख्यमंत्री जयललिता के जन्मदिन पर राज्य के विभिन्न हिस्सों में 68 किलो के केक भी काटे गए. इसके अलावा राज्य के 32 जिलों के शैव और वैष्णव संप्रदाय के मंदिरों में विल्वम (बेल), पुन्नाई और मागीझाम (फूलों का पौधा) के 6868 पौधे भी लगाए गए.
  • अम्मा के जन्मदिन के मौके पर पैदा हुए नवजातों को उपहारस्वरूप सोने के छल्ले देने के अलावा उनके माता-पिता को 10 हजार रुपये दिये गए. इस दिन अम्मा कैंटीन में सबके लिये निःशुल्क भोजन की व्यवस्था थी और सभी राहगीरों को साबुन और शैम्पू जैसे अम्मा उत्पाद उपहार स्वरूप भेंट किये गए.

अम्मा यानि तमिलनाडु की मुख्यमंत्री जयललिता के समर्थक उनके प्रति आपार सम्मान प्रदर्शित करने के क्रम में उन्हें एक क्रांतिकारी व्यक्तित्व या ‘पुराची थलाईवी’ कहकर पुकारते हैं. 

अन्नाद्रमुक (एआईएडीएमके) प्रमुख 68 वर्ष की हो गईं और उनका जन्मदिन मनाने के लिये पूरा तमिलनाडु खून, पसीने केक, धन के दिखावे और चाटुकारिता के रंगों से सराबोर हो गया.

एआईएडीएमके के एक हजार से भी अधिक सदस्यों ने आज के दिन अपनी बाहों पर अम्मा की तस्वीर गुदवाकर टैटू बनवाए. प्रारंभ में इस कार्यक्रम के आयोजकों का इरादा सिर्फ 688 लोगों लोगों के साथ ऐसा करने का था लेकिन बाद में यह संख्या बढ़कर 1050 तक पहुंच गई.

निश्चित ही ऐसा कौन होगा जो अपनी बाजू पर अम्मा की तस्वीर के साथ अपनी त्वचा पर ‘‘अम्मा हमारे लिये सबकुछ’’ गुदवाने से पीछे रहना चाहेगा?

Amma1.

राज्य के विभिन्न हिस्सों में 68 किलो के केक भी काटे गए. इसके अलावा राज्य के 32 जिलों के शैव और वैष्णव संप्रदाय के मंदिरों में विल्वम (बेल), पुन्नाई (एलेक्जेंड्रियन लाॅरेल) और मागीझाम (फूलों का पौधा) के 6868 पौधे भी लगाए गए.

अम्मा के जन्मदिन के मौके पर पदा हुए नवजातों को उपहार स्वरूप सोने के छल्ले देने के अलावा उनके माता-पिता को 10 हजार रुपये दिये गए

122 मंदिरों में विशेष पूजा-अर्चना भी की गई क्योंकि तमिल पांचांग के अनुसार जयललिता का जन्मदिन एक दिन पहले पड़ रह था.

अम्मा के जन्मदिन के मौके पर पैदा हुए नवजातों को उपहार स्वरूप सोने के छल्ले देने के अलावा उनके माता-पिता को 10 हजार रुपये दिये गए. इस दिन अम्मा कैंटीन में सबके लिये निःशुल्क भोजन की व्यवस्था थी और सभी राहगीरों को साबुन और शैम्पू जैसे अम्मा उत्पाद उपहार स्वरूप भेंट किये गए.

पूरे राज्य का प्रत्यके गांव और शहर एआईएडीएमके के काले और लाल रंग से सराबोर दिखा और सड़कों पर निकलने पर मुख्यमंत्री के आदमकद कटआउट देखे जा सकते थे. पार्टी के संस्थापक और पूर्व मुख्यमंत्री एमजी रामचंद्रन और जयललिता द्वारा बनाए गए फिल्मी गाने भी सड़कों पर सुनाई दे रहे थे.

Amma2.

इन सब कामों के बीच पार्टी के विधायक एमवी करुपईय्या प्रमुख आकर्षण रहे जिन्होंने एक विस्तृत योजना के साथ अम्मा के प्रति अपना समर्थन प्रदर्शित करने में सफलता पाई. 

अम्मा के जन्मदिन की पूर्वसंध्या पर वे मदुरई के गांधी आश्रम के पास स्थित सरकारी स्विमिंग पूल पर पहुंचे और नमस्कारम की मुद्रा में अपने दोनों हाथ ऊपर उठाकर पीठ के बल पानी में कूद गए. उन्होंने सिर्फ यही नहीं किया बल्कि वे अपने मुंह में पार्टी का झंडा लेकर पानी में पूरे एक घंटे तक तैरते भी रहे. हालांकि उनका लक्ष्य 68 मिनट तक ऐसे ही रहने का था लेकिन वे सफलतापूर्वक ऐसा करने से चूक गए.

डीएनए के मुताबिक करुपईय्या का कहना था कि उन्होंने यह ‘अम्मा’ के अच्छे स्वास्थ्य की प्रार्थना करने के लिये किया था और अपनी इस ‘जलप्रदक्षणम’ क्रिया के माध्यम से वे उन्हें जन्मदिन की शुभकामनाएं देना चाहते थे. 

एआईएडीएमके का समूचा कैडर चाटुकारिता के अपने उच्च स्तर के लिये खासा मशहूर है. उनके पिछले जन्मदिन पर भी इन्होंने अपनी नेता के 67वें जन्मदिन के उपलक्ष्य में 67 जोड़ों की शादियां करवाई थीं.

Amma3.

बीते वर्ष फरवरी के महीने में एआईएडीएमके का एक समर्थक तब सुर्खियों में आया था जब उसने जयललिता को दोबारा मुख्यमत्री बनाने की मांग करते हुए खुद को सलीब पर टांग लिया था. शहर के एक जाने-माने कराटे विशेषज्ञ शिहान हुसैनी ने अम्मा के आने वाले 67वें जन्मदिन से कुछ पहले खुद को कीलों से सलीब पर टांग लिया था और वह 6.7 मिनट तक उसपर ऐसे ही टंगा रहा था. 

हालांकि अगर पिछली घटनाओं को मानक मानकर चलें तो इस वर्ष उनका जन्मदिन चाटुकारिता के पुराने स्तरों के मुकाबले कुछ फीका ही रहा और पुराने स्तर को पाने में असफल रहा.

First published: 25 February 2016, 13:25 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी