Home » इंडिया » Amritsar Train accident alike tragedy could happen in Ludhiana in a congress program
 

फिर हो सकता था अमृतसर जैसा बड़ा हादसा, रेलवे ट्रैक के किनारे आयोजित हुआ कांग्रेस का ये कार्यक्रम

कैच ब्यूरो | Updated on: 30 October 2018, 8:39 IST

अमृतसर ट्रेन हादसे से अभी तक देश उबर नहीं पाया है. लेकिन लगता है कि इतने बड़े ट्रेन एक्सीडेंट से भी लोगों ने कोई सबक नहीं लिया है. रेलवे ट्रैक के किनारे दशहरे जैसे बड़े आयोजन की लापरवाही के चलते ही 60 से ज्यादा लोगों ने जान गंवा दी. सैंकड़ों परिवार बिखर गए. जानें गई और जो लोग घायल हुए उनके अंग क्षत-विक्षत हो आगे. लेकिन अभी भी इस तरह की लापरवाही से लोगों ने कोई सबक नहीं लिया है.

ताजा मामला लुधियाना का है जहां पर धुरी लाइन के पास ही कांग्रेस के स्टूडेंट यूनियन संघ एनएसयूआई NSUAI का एक कार्यक्रम आयोजित किया गया. गौर करने की बात ये है कि ये बड़ा आयोजन भी रेलवे ट्रैक के नजदीक आयोजित किया गया था. चौकाने वाली बात ये थी कि अमृतसर के रेल हादसे में जमकर हुई सियासी खींचतान के बाद इस आयोजन में कांग्रेस पार्टी के कई बड़े नेता मौजूद थे.

रेलवे ट्रैक के किनारे आयोजित इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि लुधियाना सेंट्रल के विधायक सुरेंद्र डावर थे. वे इस कार्यक्रम में एनएसयूआई को नए कार्यालय के लिए नियुक्ति पत्र सौंपने के लिए इस आयोजन में शामिल हुए हे. मंच पर उनकी उपस्थिति के दौरान वहां कई लोग इकट्ठे थे. और उसी दौरान रेलवे ट्रैक होने के कारण वहाँ से ट्रेनें भी गुजर रही थी. टाइम्स ऑफ इंडिया के मुताबिक इस आयोजन में शामिल हुए एक चश्मदीद गवाह ने बताया, ''कई कांग्रेसी नेताओं और कार्यकर्ताओं ने रेलवे ट्रैक के दोनों तरफ अपनी कारें पार्क की थी जो ट्रैक के बेहद करीब थी.''

एक्सप्रेस ट्रेन के डस्टबिन में नवजात बच्ची को फेंक फरार हुई मां

इस आयोजन में सुरेंद्र डावर के अलावा उनके बेटे माणिक डावर, एनएसयूआई पंजाब अध्यक्ष अक्षय शर्मा, लुधियाना कांग्रेस अध्यक्ष राजविंदर सिंह, कांग्रेस काउंसिलर परविंदर सिंह सहित कांग्रेस के कई नेता उपस्थित थे.

जब इस लापरवाही की बात उठना शुरू हुई तो विधायक डावर ने आगे आकर अपने बचाव में बयान दिया. उन्होनें कहा कि उन्हें इस बात की जानकारी नहीं थी कि ये आयोजन रेलवे ट्रैक के किनारे आयोजित किया गया है. साथ ही उन्होनें ये भी कहा कि आयोजन में लगाया गया टेंट रेलवे की प्रॉपर्टी पर नहीं बल्कि सड़क पर लगाया गया था.

अपनी सफाई देते हुए उन्होंने कहा, ''जब मुझे कार्यक्रम में बुलाया गया उसके पहले तक मुझे इसके बारे में जानकारी नहीं थी कि इसे कहां आय़ोजित किया गया है.लेकिन जब मुझे इसके बारे में पता चला तो मैंने तत्काल प्रभाव से संबंधित पुलिस थाने को संपर्क किया और एसएचओ को सुरक्षा प्रदान करने को कहा.''

साथ ही उन्होंने जानकारी न होने की बात साफ़ करते हुए कहा, ''लेकिन मैं ये स्पष्ट करना चाहता हूं कि कार्यक्रम रेलवे की जमीन पर आयोजित नहीं किया गया था बल्कि इसे सड़क किनारे आयोजित किया गया था लेकिन हां यह रेलवे के किनारे जरूर था.''

डावर ने आगे कहा, ''हालांकि मैं कार्यक्रम में मात्र 10 मिनट के लिए रुका था और वहां एनएसयूआई कार्यकर्ताओं से कहा कि उन्हें कार्यक्रम रेलवे के किनारे आयोजित नहीं करना था.मैं ये सुनिश्चित करना चाहता हूं कि आगे भविष्य में कभी भी इस तरह के आयोजित कार्यक्रम में हिस्सा नहीं लूंगा.''

First published: 30 October 2018, 8:33 IST
 
अगली कहानी