Home » इंडिया » Amritsar Train Accident: Panjab CM Captain Amrinder Singh did not reached on Spot after 17 hours
 

अमृतसर ट्रेन हादसे के 17 घंटे तक घटनास्थल पर क्यों नहीं पहुंचे पंजाब के CM कैप्टन अमरिंदर सिंह?

कैच ब्यूरो | Updated on: 20 October 2018, 14:16 IST

पंजाब के अमृतसर में रावण दहन के दौरान हुए ट्रेन एक्सीडेंट में 60 से ज्यादा लोगों ने अपनी जान गंवा दी. इस भयानक हादसे को लेकर प्रशासन और आयोजक एक दूसरे पर आरोप लगा रहे हैं. सबसे आश्चर्य की बात यह है कि घटना के 17 घंटे बीत जाने के बाद भी पंजाब के सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह घटनास्थल तक नहीं पहुंचे थे.

17 घंटे बीत जाने के बाद वह अमृतसर पहुंचे और घायलों से मिले. अस्पताल में जख्मी लोगों के हालचाल पूछने के बाद अमरिंदर सिंह ने मीडिया से बात की. उन्होंने बताया कि ये बहुद ही दर्दनाक घटना है और इस हादसे में 59 लोगों की मौत हो गई है, जबकि 57 लोग जख्मी है. अमरिंदर सिंह ने कहा कि पीड़ित परिवारों के साथ हमारी संवेदनाएं हैं. 

कैप्टन ने बताया कि 9 शवों की अब तक पहचान नहीं हो पाई है. इस हादसे के जिम्मेदार लोगों के लिए घटना की मजिस्ट्रेट जांच के आदेश दिए हैं और चार हफ्तों में इसकी रिपोर्ट मांगी गई है. वहीं लोगों ने उनके खिलाफ नारे लगाए. स्थानीय लोगों का कहना था कि 17 घंटे होने के बाद भी आप घटनास्थल तक क्यों नहीं गए.

इस सवाल के जवाब में उन्होंने बताया कि मुझे इजरायल जाना था, उस वक्त मैं एयरपोर्ट था, जब यह जानकारी मिली. इसके पहले हादसे के बारे में जानकारी लेने पहुंचे शिक्षा मंत्री ओपी सोनी को भी भीड़ का गुस्सा झेलना पड़ा. गुस्साई भीड़ ने शिक्षा मंत्री का विरोध करते हुए हंगामा किया.

पढ़ेें- Video: रावण बन आकर आई ट्रेन ने कुचल दीं सैकड़ों जानें, पटरी से 150 मीटर दूर तक बिखर गए शव के टुकड़े

लोगों के विरोध से इतना ज्यादा हंगामा हुआ कि शिक्षा मंत्री की सुरक्षा में तैनात गनमैन को भीड़ तितर-बितर करने के लिए हवाई फायरिंग करनी पड़ी. इतना ही नहीं दुर्घटनास्थल पर पहुंची रिलीफ ट्रेन पर भी लोगों ने पथराव कर दिया. दरअसल, किसी भी रेल दुर्घटना के बाद अफसरों और मेडिकल टीम को रिलीफ ट्रेन के जरिए भेजा जाता है जिससे कि घायलों को मदद पहुंचाई जा सके.

First published: 20 October 2018, 14:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी