Home » इंडिया » Amul begins sale of camel milk in select Gujarat markets
 

अमूल ने गुजरात में लॉन्च किया ऊंटनी का दूध, पीएम मोदी ने बताये थे लाभ

कैच ब्यूरो | Updated on: 23 January 2019, 10:59 IST

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा गुजरात के आनंद में एक सार्वजनिक कार्यक्रम में ऊंटनी के दूध के लाभों के बारे में बताने के तीन महीने बाद गुजरात को-ऑपरेटिव मिल्क मार्केटिंग फेडरेशन लिमिटेड (GCMMF) ने मंगलवार को गुजरात के चुनिंदा बाजारों में अमूल कैमल मिल्क लॉन्च करने की घोषणा की है. जिसमें गांधीनगर, अहमदाबाद और कच्छ शामिल हैं. कच्छ जिले में ऊंट-प्रजनकों से प्राप्त दूध 500 मिलीलीटर पीईटी बोतलों में उपलब्ध होगा और इसकी कीमत 50 रुपये है.

जीसीएमएमएफ की एक आधिकारिक विज्ञप्ति में कहा गया है कि इस दूध की तीन दिनों का शैल्फ लाइफ है. और ठंडे में रखने की जरूरत होगी. अमूल ने पहले ऊंटनी का दूध चॉकलेट में डाला था. अमूल ने चुनिंदा गुजरात के बाजारों में ऊंटनी के दूध की बिक्री शुरू की है.

 

कच्छ जिले में ऊंट-प्रजनकों से प्राप्त दूध 500 मिलीलीटर की पीईटी बोतलों में उपलब्ध होगा. पिछले साल सितंबर में अमूल डेयरी की अपनी यात्रा के दौरान प्रधान मंत्री मोदी ने दावा किया था कि कई साल पहले ऊंटनी के दूध को पौष्टिक कहने का उपहास उड़ाया गया था, और अब ऊंटनी के दूध का इस्तेमाल न केवल चॉकलेट बनाने में किया जा रहा था, बल्कि इसके लिए दोगुने दाम भी लिए जा रहे थे.

किसानों की तुलना गाय के दूध से की जाती है. इससे पहले कहा गया था कि जीसीएमएमएफ दीवाली 2018 के दौरान ऊंट के दूध को लॉन्च करने की योजना बना रहा था और भुज में 20,000 लीटर ऊंट के दूध को संसाधित करने के लिए एक प्रसंस्करण इकाई स्थापित की गई थी.

कच्छ में ऊंटनी का दूध एकत्र करने वाली सरहद डेयरी के अधिकारियों ने कहा कि वर्तमान में गाय का दूध दुग्ध उत्पादक के लिए 28-30 रुपये प्रति लीटर मिलता है, जबकि गुजरात में ऊंट का दूध 50-55 रुपये प्रति लीटर मिलता है.

First published: 23 January 2019, 10:59 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी