Home » इंडिया » an audio tape of the conversation between Wani and LeT chief Hafiz Saeed released
 

बुरहान वानी का आतंकी हाफिज सईद से था कनेक्शन, ऑडियो टेप में हुआ खुलासा

कैच ब्यूरो | Updated on: 2 December 2016, 18:17 IST
(फाइल फोटो )

एक न्यूज चैनल ने जम्मू-कश्मीर में 8 जुलाई को सुरक्षाबलों के हाथों मारे गए हिजबुल कमांडर बुरहान वानी और लश्कर-ए-तैयबा के सरगना हाफिज सईद के बीच कनेक्शन होने का दावा किया है.

इसको लेकर बुरहान वानी और हाफिज सईद के बीच बातचीत का ऑडियो टेप जारी हुआ है. एक निजी टीवी चैनल सीएनएन न्यूज 18 ने दोनों आतंकियों के बीच बातचीत का ऑडियो टेप जारी किया है.

इस ऑडियो में बुरहान वानी और हाफिज सईद दोनों भारत को बर्बाद करने की योजनाओं पर बात कर रहे हैं. वानी भारतीय सुरक्षा बलों के खिलाफ लश्कर और हिजबुल के साथ मिलकर काम करने की बात कर रहा है. खुफिया एजेंसियों ने पाकिस्तान में बैठे हाफिज और वानी की इस बातचीत को इंटरसेप्ट किया था. हालांकि अभी तक इस ऑडियो की सत्यता की पुष्टि नहीं हो पाई है.

यह ऑडियो कब का है इस बारे में कोई पुख्ता जानकारी अभी तक नहीं मिल पाई है. लेकिन ये तय है कि यह ऑडियो आठ जुलाई से पहले का है जब वानी जिंदा था. हालांकि कैच डॉटकॉम इस आडियो टेप और बातचीत की पुष्टि नहीं करता है.

इस दौरान हुई बातचीत के अंश

हाफिज सईद: क्या आप बुरहान बोल रहे हो

वानी: जी हां, मैं बुरहान

सईद: आप और आपके लोग वहां पर काफी परेशानियों में जी रहे हैं. लेकिन आप चिंता न करें. आपको जो कुछ चाहिए हमें बताएं, हम कुछ भी करने के लिए तैयार हैं. आप केवल हमें बताएं.

वानी: लश्कर हथियार, पैसे और गोला बारुद के जरिए कश्मीर में उनकी ज्यादा से ज्यादा मदद कर सकता है.

सईद: जी हां हम पूरी तरह से मदद करते रहेंगे.

वानी: हमने अपने दुश्मनों को लगभग पूरी तरह से मात दे दी है और इस जीत को वह कायम किए हुए हैं.

सईद: हां

वानी: हम हमला करने का यह मौका खोना नहीं चाहते हैं.

सईद: हां

वानी: लेकिन इसके लिए हमें गोला बारुद की जरूरत है और इसके साथ ही पीछे से सपोर्ट की भी जरूरत है.

सईद: हां

वानी: हम एक साथ काम करना चाहते हैं.

गौरतलब है कि जम्‍मू कश्‍मीर में 8 जुलाई को सुरक्षाबलों ने एक मुठभेड़ के दौरान हिजबुल कमांडर बुरहान वानी मार गिराया था. उसकी मौत के बाद कश्मीर घाटी में कई दिनों तक लगातार प्रदर्शन और हिंसा का दौर चला था, जिसमें 86 लोगों की मौत हो गई थी. वहीं 5,000 सुरक्षाकर्मियों समेत कई नागरिक घायल हुए थे. 

First published: 2 December 2016, 18:17 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी