Home » इंडिया » An MNS worker wearing a t-shirt which reads, I will break the law
 

'मैं मटकी फोड़ूंगा, कानून तोड़ूंगा'

कैच ब्यूरो | Updated on: 7 February 2017, 8:20 IST
(फाइल फोटो)

महाराष्ट्र में श्रीकृष्ण जन्माष्टमी के मौके पर दही-हांडी उत्सव मनाया जा रहा है. मुंबई शहर में गोविंदाओं की टोलियां जगह-जगह मटकी फोड़ने में जुटी हैं. उत्सव के बीच अब सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर सियासत भी गरमा गई है.

राज ठाकरे की पार्टी महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना अदालत के आदेश का विरोध करती दिख रही है. हालांकि पुलिस ने अपनी तरफ से आयोजकों को नोटिस थमाकर आगाह किया है.

महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना ने सुप्रीम कोर्ट के आदेश के खिलाफ 20 फीट से ऊंची दही हांडी लगाने का एलान किया है. साथ ही आदेश के खिलाफ 9 थरों का मानव पिरामिड बनाने की भी घोषणा कर डाली.

पढ़ें: मुंबई में इस बार श्रीकृष्ण जन्माष्टमी पर नाराज हैं 'गोविंदा'

यही नहीं, एमएनएस की तरफ से गोविंद पथक को 11 लाख रुपये का इनाम भी दिया जाएगा. आने वाले दिनों में निगम चुनाव होने हैं, ऐसे में एमएनएस के एलान को उसी से जोड़कर देखा जा रहा है.

ठाणे में एनएनएस कार्यकर्ता की टी शर्ट पर लिखा है मैं कानून तोड़ूंगा. (एएनआई)

सुप्रीम कोर्ट के आदेश का उल्लंघन

जाहिर है अपने नेता के एलान के समर्थन में कार्यकर्ताओं को अमल करना ही था. ठाणे में एमएनएस के एक कार्यकर्ता ने विरोध जताते हुए एक टी शर्ट पहन रखी है. जिस पर मराठी में लिखा हुआ है, "मैं कानून तोड़ूंगा."

ठाणे में सुप्रीम कोर्ट के आदेश को ताक पर रखते हुए दही-हांडी उत्सव के दौरान गोविंदाओं ने मानव पिरामिड बनाया. यहां 40 फीट से ज्यादा ऊंचा मानव पिरामिड बनाते हुए सुप्रीम कोर्ट के निर्देशों को ठेंगा दिखाया गया.

पढ़ें: सुप्रीम कोर्ट: 20 फीट तक ही रहेगी दही-हांडी की ऊंचाई

आसमान में लटके दही-हांडी को फोड़ने की यह परंपरा हर साल कई मासूमों की मौत की वजह बनती है. दही-हांडी फोड़ने के चक्कर में कई गोविंदा घायल होते हैं.

इसके बावजूद इनामी रकम और कीर्तिमान के चक्कर में हांडी की ऊंचाई हर बार बढ़ती ही चली जाती है. ऐसे में सुप्रीम कोर्ट ने बॉम्बे हाईकोर्ट के फैसले को बरकरार रखा और कुछ दायरे तय किए हैं. नाबालिगों को भी इस बार मानव पिरामिड में हिस्सा लेने की इजाजत नहीं मिली है. 

सुप्रीम कोर्ट ने 20 फीट से ज्यादा उंचाई पर दही-हांडी रखने पर रोक लगाई है. (एएनआई)
First published: 25 August 2016, 3:24 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी