Home » इंडिया » Anna Hazare broke his fast following negotiations with Maharashtra Chief Minister Devendra Fadnavis
 

सरकार ने मानी सभी मांगे, देवेंद्र फडणवीस ने पानी पिलाकर तुड़वाया अन्ना का अनशन

कैच ब्यूरो | Updated on: 29 March 2018, 19:46 IST

केंद्र सरकार द्वारा सभी मांगे मान लेने के बाद समाजसेवी अन्ना हजारे ने अपना अनशन तोड़ दिया है. केंद्रीय कृषि राज्यमंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत और महाराष्ट्र के सीएम देवेंद्र फडणवीस ने रामलीला मैदान पहुंचकर अन्ना हजारे को उनकी सभी मांगों को सरकार द्वारा मान लेने की जानकारी दी. इसके बाद अन्ना ने अपना अनशन तोड़ दिया है. अन्ना हजारे पिछले सात दिन से अनशन पर थे.

आपको बता दें अन्ना हजारे ने 23 मार्च को दिल्ली के रामलीला मैदान में अनशन शुरू किया था. अन्ना हजारे ने लोकपाल और राज्यों में लोकायुक्तों की नियुक्ति के अलावा किसानों की समस्या सहित 11 मांगे उठाई थीं. अन्ना हजारे ने इस बार राजनीतिक पार्टियों को अनशन से दूर रहने के लिए कहा था.

इसके चलते कोई भी नेता उनके अनशन में शामिल होने के लिए नहीं पहुंचा था. आम आदमी पार्टी से भी कोई नेता अन्ना के आंदोंलन में शामिल होने नहीं गया था. हालांकि किसान संगठनों ने अन्ना के आंदोलन को अपना समर्थन दिया था.

अन्ना ने आदोंलन शुरू करने के दौरान कहा था कि जब तक उनके शरीर में जान है वो अनशन करते रहेंगे. हालांकि सरकार की तरफ से अधिकतर मांगों को मान लेने के बाद अन्ना ने अपना आंदोलन तोड़ दिया है. अन्ना ने आंदोंलन तोड़ने के बाद कहा, सरकार ने किसानों से संबंधित सभी मांगे मान ली है. हालांकि अभी तक लोकायुक्त और लोकपाल के गठन के लिए 6 महीने का समय मांगा है.

हम सरकार को 6 महीने का समय देते हैं.  अन्ना ने कहा कि महाराष्ट्र के सीएम फडणवीस ने आश्वासन दिया है कि 6 महीने पहले ही सभी मांगों को पूरा कर दिया जाएगा. उन्होंने कहा कि मैं आंदोलन में शामिल होने वाले सभी संगठनों का धन्यवाद करता हूं.

First published: 29 March 2018, 19:46 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी