Home » इंडिया » Aparesh Shaha: Tough fight at Nanoor Constituency bw TMC-CPM
 

अपरेश साहाः नानूर विधानसभा में टीएमसी-सीपीएम के बीच फंसा मुकाबला

असद अली | Updated on: 15 April 2016, 21:55 IST
QUICK PILL
नानूर मुख्य कस्बे के एक सिरे पर अपरेश साहा अपनी किराना की दुकान चलाते हैं. पहले वो कांग्रेस के वोटर थे लेकिन पिछल चुनाव में उन्होंने  में तृणमूल को वोट दिया. नानूर में पिछली बार टीएमसी के टिकट पर तीसरी बार गदाधर हाजरा ने जीत दर्ज की थी. साहा कहते हैं कि इस बार वे फिर से थोड़ा भ्रम में हैं और शायद सीपीएम को वोट दें. उनका पूरा परिवार भी उन्हीं की तरह वोट देगा.बीरभूमि जिले में नानूर विधानसभा (287) में 17 अप्रैल को मतदान होना है. यहां टीएमसी के गदाधर हाजरा और सीपीएम के गठबंधन उम्मीदवार श्यामली प्रधान के बीच कड़े मुकाबले की उम्मीद है.

आपकी विधानसभा से प्रमुख उम्मीदवार कौन हैं?

टीएमसी से गदाधर हाजरा और एक सीपीएम उम्मीदवार शायद श्यामली प्रधान... हां वहीं हैं.

तो आपके क्षेत्र में किसने अच्छा काम किया है. कौन सी पार्टी ठीक काम कर रही है?

मुझे लगता है गदाधर हाजरा ने अच्छा काम किया है.

उन्होंने ऐसा क्या किया है यहां?

ज्यादा कुछ नहीं. मेरा मतलब कि उन्होंने इधर-उधर की खराब सड़कों आदि की मरम्मत करवाई.

श्यामली प्रधान की क्या स्थिति है?

वो अभी एक उम्मीदवार के रूप में सामने आईं ही हैं. थोड़ा समय लगेगा. मुझे लगता है कि उनके सामने एक अच्छा मौका है.

कैसे? वो तो एक नई उम्मीदवार हैं...

क्योकि लोग तृणमूल से तंग आ चुके हैं और उसके बारे में अच्छी राय नहीं रखते है. टीएमसी ने वाकई लोगों को परेशान कर रखा है.

आपका मतलब गदाधर हाजरा?

जी हां.

उन्होंने कैसे लोगों को इतना दुखी कर दिया?

उन्होंने लोगों से पैसे लेकर नौकरी दिलाने का वादा किया लेकिन आज तक ऐसा कुछ नहीं हुआ. उन्होंने लोगों से जमीन के मामले सुलझाने के नाम पर पैसे लिए और इसके लिए भी कुछ नहीं किया. वो कोई न कोई बखेड़ा खड़ा कर ही देते हैं. इन सभी वजहों से मुझे लगता है कि लोगों का उनपर से भरोसा उठ गया है.

तो आपको यहां से किस पार्टी के जीतने की उम्मीद नजर आती है?

मुझे सीपीएम की जीत की संभावना दिखती है.

आप किसे वोट देंगे?

(चारो ओर देखने के बाद धीमी आवाज में) मैं सीपीएम की श्यामली को वोट दूंगी... हालांकि मैं सामान्यत: टीएमसी को वोट देता आया हूं.

आपने पिछली बार गदाधर हाजरा को वोट दिया था?

हां पिछली बार मैंने वाकई टीएमसी को वोट दिया था लेकिन अब नहीं. मेरा पूरा परिवार इस बार वाम को वोट डालेगा.

आप सीपीएम को वोट दे रहे हैं या फिर टीएमसी के खिलाफ?

हां यही बात है. हम नहीं चाहते हैं कि हमारा वोट हाजरा के पास जाए.

क्या आपको लगता है कि यहां पर वाम फिर से उभर रहा है?

जरूर, काजल समर्थन दे रहा है... हां सीधे तौर पर तो नहीं लेकिन हमें पता है. ज्यादातर मित्र और जानकार जिन्हें मैं जानता हूं वो सभी वाम को वोट देंगे.

क्या आपको डर नहीं लगता कि बाद में अगर हाजरा के लोग आपसे पूछने आए कि किसे वोट दे रहे हो?

हां यह डर तो हैं लेकिन ऐसे में काजल भी अपने आदमी लगाने में सक्षम है.

आपके हिसाब से काजल कैसा है?

वो बुरा आदमी नहीं है. टीएमसी के कुछ लोगों ने काजल को अपने काम करने के लिए इस्तेमाल किया था.

First published: 15 April 2016, 21:55 IST
 
असद अली @asadali1989

Asad Ali is another cattle class journalist trying to cover Current affairs and Culture when he isn't busy not saving the world.

पिछली कहानी
अगली कहानी