Home » इंडिया » Archaeological Site of Nalanda Mahavihara is now a UNESCO’s World Heritage Site
 

यूनेस्को की वर्ल्ड हेरिटेज साइट में शामिल हुआ नालंदा विश्वविद्यालय

कैच ब्यूरो | Updated on: 16 July 2016, 13:11 IST
(फेसबुक)

बिहार स्थित विश्व प्रसिद्ध नालंदा महाविहार (नालंदा विश्वविद्यालय) के खंडहर को यूनेस्को द्वारा वर्ल्ड हेरिटेज साइट में शामिल कर लिया गया है. तुर्की के इस्तांबुल में विश्व धरोहर समिति की 40वीं बैठक में चार नए स्थलों को शामिल किए जाने की घोषणा की गई.

यूनेस्को ने ट्विटर पर एक तस्वीर शेयर करते हुए इस बात की जानकारी दी है. शुक्रवार को यूनेस्को ने भारत के प्राचीन नालंदा यूनिवर्सिटी के भग्नावशेष के अलावा चीन के जुओजिअंग हुआसन रॉक आर्ट कल्चर लैंड स्केप, ईरान के पर्शियन कनाट और फेडरल स्टेट ऑफ माइक्रोनेशिया के सेरिमोनियल सेंटर ऑफ ईस्टर्न माइक्रोनेशिया को विश्व धरोहर में शामिल किया है.

यूनेस्को नेशंस एजुकेशनल, साइंटिफिक एंड कल्चरल ऑर्गनाइजेशन (यूनेस्को) ने महाबोधि मंदिर के बाद बिहार के दूसरे स्थल नालंदा के खंडहर को विश्व धरोहर में शामिल किया है. विश्व धरोहर में शामिल होने वाला यह भारत का 33वां धरोहर है.

भारत के संस्कृति मंत्रालय ने ट्वीट किया, "बधाई..नालंदा महाविहार का पुरातत्व स्थल अब विश्व धरोहर स्थल बना. धन्यवाद यूनेस्को, इरिना बोकोवा." इरिना बोकोवा यूनेस्को की एशिया क्षेत्र की महानिदेशक हैं.

गौरतलब है कि नालंदा विश्वविद्यालय की स्थापना 413 ईस्वी में हुई थी और 780 साल तक यह बौद्ध धर्म, दर्शन, चिकित्सा, गणित, वास्तु, धातु और अतंरिक्ष विज्ञान के अध्ययन का विश्व प्रसिद्ध केंद्र रहा. 1193 में हमलावरों ने इस विश्वविद्यालय को तहस-नहस कर दिया था.

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने इसको लेकर खुशी जाहिर की है. अपने फेसबुक प्रोफाइल से जारी संदेश में मुख्यमंत्री ने कहा, "राज्य सरकार एवं केन्द्र सरकार की संयुक्त पहल पर फलस्वरूप 'नालंदा महाविहार के भग्नावशेष' को यूनेस्को द्वारा विश्व धरोहर घोषित किए जाने की सूचना प्राप्त हुई है."

उन्होंने कहा कि इस महत्वपूर्ण उपलब्धि के लिए यूनेस्को में प्रस्ताव का समर्थन करने वाले सभी सदस्य देशों को उनके सहयोग के लिए एवं संस्कृति मंत्रालय, भारत सरकार, यूनेस्को में भारतीय दूतावास, भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण, राज्य के कला, संस्कृति एवं युवा विभाग तथा सभी संबद्ध अधिकारीगण को उनके प्रयासों के लिए हार्दिक धन्यवाद देता हूं. बिहार और देश के लिए गौरव के इस क्षण में सभी देशवासियों एवं राज्य के नागरिकों को बधाई.

First published: 16 July 2016, 13:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी