Home » इंडिया » Are BJP workers embarrassed about Modi? This Whatsapp clip says they are
 

क्या मोदी ने अपने कार्यकर्ताओं को शर्मिन्दा कर दिया है?

कैच ब्यूरो | Updated on: 27 September 2016, 4:16 IST
QUICK PILL
  • बीते कुछ दिनों से मोबाइल एप्लीकेशन वट्सएप पर एक ऑडियो क्लिप सर्कुलेट हो रही है जिसने बीजेपी को परेशान कर दिया है.
  • माना जा रहा है कि ये बातचीत एक कॉल सेंटर एजेंट और पार्टी कार्यकर्ता के बीच हुई है लेकिन इसकी प्रमाणिकता की पुष्टि नहीं हो पाई है.

व्हाट्स एप पर आजकल एक ऑडियो क्लिप वायरल हो रही है, जिसने भाजपा की नाक में दम कर दिया है, क्योंकि यह उसके लिए शर्मिन्दगी का सबब बन चुकी है. दावा किया जा रहा है कि यह ऑडियो क्लिपिंग लखनऊ बीजेपी ऑफिस से फोन करने वाले एक कॉल सेंटर एजेंट और पार्टी कार्यकर्ता की आपसी बातचीत की रिकॉर्डिंग है. एजेंट पार्टी कार्यकर्ता से फोन पर पूछता है कि क्या वे आगामी विधानसभा चुनाव में उत्तर प्रदेश में पार्टी के लिए काम करना चाहेंगे. पार्टी कार्यकर्ता जवाब देता है लेकिन थोड़ी देर बाद उसका टोन बदल जाता है. वह एजेंट से पूछता है कि बीजेपी के पहले के चुनावी वादों का क्या हुआ.

कैच इस क्लिप के ऑथेन्टिक होने की गारंटी नहीं देता. उत्तर प्रदेश में बीजेपी प्रवक्ता विजय बहादुर पाठक ने कैच को कहा कि पार्टी ऐसा कोई टेली कॉलिंग अभियान नहीं चला रही. इसी क्लिप को व्हाट्स एप पर शेयर करने वालों में से एक सामाजिक कार्यकर्ता शबनम हाशमी ने कहा, वे भी इस पर विश्वास नहीं कर सकती क्योंकि यह वायरल हो चुका है. उन्होंने यह भी आशंका जताई कि जरूरी नहीं दोनों ओर से बातचीत में शामिल व्यक्ति बीजेपी के ही हों? हो सकता है यह हताश सा दिखाई देने वाला कार्यकर्ता बीजपी का न हो.

सच्चाई चाहे जो भी हो, दोनों के बीच बातचीत काफी मजेदार है. साथ ही इससे बीजेपी के चुनावी वादोें को पूरा न कर पाने पर जनता की राय की एक झलक देखी जा सकती है।

आइए देखें क्या है इस क्लिप में...

हेलो,

हेलो

क्या मैं दीपक शर्मा से बात कर रहा हूं?

हां... आप कौन?

सर, यह कॉल आपको बीजेपी के स्वयंसेवक अभियान के तहत किया जा रहा है, जिसके लिए आपने आवेदन किया है.

सर क्या आप उत्तर प्रदेश में आगामी विधानसभा चुनाव में पार्टी के प्रचार अभियान में शामिल होंगे?

बीजेपी?

हां बीजेपी

सर, मुझे बीजेपी में शामिल होने में कोई एतराज नहीं है लेकिन मोदी जी ने अपने वादों में से एक भी पूरा नहीं किया. उन्होंने कहा था कि वे एक सिर के बदले 10 सिर लाएंगे और पाक को सबक सिखाएंगे; वे पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की आलोचना करते थे लेकिन अब वे भी वैसे ही हो गए हैं और कोई कार्रवाई नहीं कर रहे.

सर, किसी देश पर हमला करना आसान नहीं है

आक्रोश में, फिर किस आधार पर सुषमा स्वराज, राजनाथ सिंह और नरेंद्र मोदी मनमोहन सिंह से पाक पर हमला करने की उम्मीद करते थे, जब वे विपक्ष म्रें थे. मैंने अपने करियर में इससे बुरा प्रधानमंत्री नहीं देखा, जो केवल विदेश घूमते हों और जनता के पैसे पर कपड़े बदलते रहते हों. उत्तर प्रदेश में कोई बीजेपी के लिए काम नहीं करेगा. पार्टी को चुनावों में केवल दस सीटों पर विजय मिलेगी. मेरी बात मानो और कोशिश मत करो, उत्तर प्रदेश में कोई पार्टी के लिए काम नहीं करेगा.

सर आपकी बात सही है. मैं मानता हूं आपको दुख हुआ है कि हमारे 18 जवान शहीद हो गए.

...हम्म!!

लेकिन कोई भी प्रधानमंत्री या मुख्यमंत्री किसी देश के खिलाफ इतनी जल्दी कार्रवाई नहीं कर सकते. फिर आपने मनमोहन सिंह से ऐसी उम्मीद क्यों की? अमित शाह क्यों अपनी हर रैली में कहते रहे कि पाक भारत पर हमला करने की हिम्मत नहीं करेगा अगर नरेंद्र मोदी देश के प्रधानमंत्री बन जाते हैं. शाह को अब सफाई देनी चाहिए कि वह भी सिर्फ जुमला ही था.

सर..सर...सर हम नरेंद्र मोदी के लिए दिन रात काम कर चुके हैं; हालत यह है कि मोदी के कारण आज हम किसी को मुंह दिखाने के लायक नहीं हैं?

सर, मैं मानता हूं आपका कहना बिल्कुल सही है.

आप कहां से बात कर रहे हैं?

सर, मैं लखनऊ बीजेपी ऑफिस से बोल रहा हूं.

लखनऊ से!...

यस सर!

भाजपा ने इस बार उत्तर प्रदेश में नारा दिया है, ‘ना गुंडा राज, ना भ्रष्टाचार, अबकी बार भाजपा सरकार’ इन सबमें केशव देव मौर्या सबसे बड़ा गुंडा है. उसके खिलाफ बहुत से मामले चल रहे हैं. इसी कड़ी में दूसरा नाम संगीत सोम का है. इसके अलावा आजमगढ़ के रमाकांत अगला नाम है.  जितने भी अपराधी और भ्रष्ट लोग हैं, सब चुनाव लड़ने को तैयार है. ऐसे में यह नारा कैसे सार्थक होगा?

सर आपकी नारजगी सही है, मैं मानता हूं लेकिन हम बस अपना काम कर रहे हैं. इससे ज्यादा हमकुछ नहीं कर सकते सर। सेवाएं तो ले लोगे लेकिन मैं अपनी शिकायतें लेकर कहां जाऊं? करोड़ों अरबों के घोटाले में फंसे लोग इस बार बीजपी के टिकट पर चुनाव लड़ रह हैं.

क्या हम यह समझने के काबिल हैं कि नया नारा ऐसे लोगों के साथ कैसे फिट बैठेगा?

सर थैंक्स अ लॉट.

एक बात और, नरेंद्र मोदी देश के प्रधानमंत्री है. उन्हें राज्यों के चुनावों की फिक्र किए बिना देश के मामलों पर फोकस करना चाहिए. उन्हें पाक को करारा जवाब देना चाहिए, देश की विदेश नीति का प्रबंधन करना चाहिए, देश के विकास पर ध्यान देना चाहिए. प्रधानमंत्री की सफलता का पैमाना राज्य में चुनाव प्रचार की अगुवाई करना नहीं है. वे अपनी नीतियों से ही सफल हो सकते हैं। कृप्या उन तक यह संदेश पहुंचा दें.

ओके सर ओके

अन्यथा बीजेपी को यूपी में बिहार जैसे हालात का सामना करना पड़ सकता है

चिंता की कोई बात नहीं है...ओके?

ओके सर ओके सर. थैंक्यू सर

First published: 27 September 2016, 4:16 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी