Home » इंडिया » Army Jawan Chandu Chavan who crossed over into pakistan alleging harassment on india army
 

पाकिस्तान से छूटकर आए जवान ने लगाया सेना पर उत्पीड़न का आरोप, कहा- दूंगा इस्तीफा

कैच ब्यूरो | Updated on: 6 October 2019, 9:11 IST

भारतीय सेना के एक जवान चंदू चव्हाण ने सेना पर उत्पीड़न का आरोप लगाया है. चव्हाण ने कहा है कि वह जल्द इस्तीफा देंगे. दरअसल, जवान चंदू चव्हाण साल 2016 में गलती से पाकिस्तान की सीमा में चले गए थे. उसके चार महीने बाद उन्हें रिहा किया गया था. चंदू चव्हाण महाराष्ट्र के धुले के रहने हैं. चव्हाण का कहना है कि, ‘‘जब से मैं पाकिस्तान से लौटा हूं लगातार सेना की ओर से उत्पीड़न किया जा रहा है और मुझे संदिग्ध दृष्टि से देखा जाता है, इसलिए मैंने सेना छोड़ने का फैसला किया है.’’

हालांकि सेना ने चंदू चव्हाण के उत्पीड़न के आरोपों को खारिज कर दिया है. सेना ने एक बयान जारी कर कहा कि चंदू के खिलाफ पांच मामले चल रहे हैं. उन्होंने आम चुनावों में राजनीतिक पार्टियों के समर्थन में प्रचार किया, जिसने काफी सुर्खियां बटोरीं. इस संबंध में शिकायत भी की थी. सेना का कहना है कि, ''हाल ही में यूनिट लाइंस के पास चंदू चव्हाण को शराब के नशे में पाया गया था. जब तक उनके खिलाफ अनुशासनात्मक जांच चल रही है वे 3 अक्टूबर 2019 से बिना छुट्टी लिए यूनिट से बाहर हैं. सेना ऐसे किसी भी गैर अनुशासनात्मक रवैये को बर्दाश्त नहीं करती है.''


वहीं चंदू चव्हाण के नजदीकी सूत्रों का कहना है कि चव्हाण ने अपना त्याग पत्र अहमदनगर स्थित सैन्य टुकड़ी के कमांडर को भेज दिया है. बता दें कि चव्हाण को पाकिस्तानी रेंजर्स ने करीब चार महीने तक अपने कब्जे में रखा. इस दौरान उनके साथ बेरहमी से मारपीट की गई उन्हें यातनाएं दी गईं उसके बाद उन्हें मरणासन्न हालत में भारत को सौंप दिया गया था.

बता दें कि पिछले महीने जवान चंदू चव्हाण सड़क हादसे में घायल हो गए थे. उनके चेहरे और सिर में गंभीर चोटें आई थी. इस हादसे में उनके चार दांत भी टूट गए थे. भौंह, होंठ पर भी चोटें आई थीं और अभी भी वह अस्पताल में भर्ती हैं. यह हादसा उस दौरान हुआ जब वह बाइक से अपने गृहनगर बोहरीवीर जा रहे थे.

जम्मू-कश्मीर में बड़ा आतंकी हमला, अनंतनाग में डीसी ऑफिस को बनाया निशाना

First published: 6 October 2019, 9:11 IST
 
अगली कहानी