Home » इंडिया » arun jaitley attacks on former pm manmohan singh
 

जेटली बनाम मनमोहन: 'एनडीए सरकार में पीएम का शब्द ही आखिरी फैसला होता है'

कैच ब्यूरो | Updated on: 13 February 2016, 17:35 IST

वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा है कि पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को मौजूदा सरकार का निष्पक्ष विश्लेषण करना चाहिए. इससे वह (मनमोहन सिंह) समझ सकेंगे कि भारत में ऐसी सरकार है जहां पीएम का शब्द ही आखिरी फैसला होता है.

जेटली की प्रतिक्रिया उस टिप्पणी पर आई है जिसमें मनमोहन सिंह की ने कहा था कि केंद्र की सरकार में विश्वास का संकट है. पीएम मोदी को 'हर भारतीय' को यह विश्वास दिलाना चाहिए कि वह लोगों की भलाई की चिंता करते है.

वित्त मंत्री ने अपने फेसबुक पोस्ट 'डाॅक्टर मनमोहन सिंह को अपनी पार्टी को क्या सलाह देनी चाहिए' में लिखा है, 'मुझे भरोसा है कि यदि डॉक्टर सिंह मौजूदा सरकार का निष्पक्षता से आकलन करेंगे तो उन्हें पता चलेगा कि भारत में ऐसी सरकार है जिसमें आखिरी फैसला प्रधानमंत्री का होता है. यहां प्राकृतिक संसाधन बिना किसी भ्रष्टाचार के पारदर्शी प्रक्रिया के जरिए आवंटित होते हैं.'

वित्त मंत्री ने आगे लिखा, 'उद्योगपति अब फाइलें आगे बढ़ाने या फैसलों के लिए नॉर्थ ब्लॉक के चक्कर नहीं काटते. पर्यावरण मंजूरी का काम नियमित सुलझाया जाता है और इन्हें सिर्फ परपीड़ा या भ्रष्टाचार के लिए अटकाया नहीं जाता.'

पीएम लोगों को विश्वास दिलाए: मनमोहन सिंह

मनमोहन सिंह ने एक पत्रिका को दिए इंटरव्यू में कहा, 'बीफ विवाद और असहनशीलता जैसे मुद्दे समस्याएं रही हैं. हमारे देश में लोग प्रधानमंत्री से उम्मीद रखते हैं कि वह जनमत के प्रबंधन के मामले में नेतृत्व करें. लेकिन उन्होंने (मोदी ने) कभी नहीं बोला. चाहे बीफ का विवाद हो या मुजफ्फरगनर और अन्य जगहों पर हुई घटनाओं का मामला हो.'

उन्होंने कहा, 'मैं नहीं जानता. मैं उनके दिमाग को नहीं पढ़ सकता. लेकिन वह भारत के सभी लोगों के प्रधानमंत्री हैं। उन्हें हर भारतीय को यह विश्वास दिलाना चाहिए कि हमारा प्रधानमंत्री ऐसा है जो सभी के हितों की चिंता करता है.'

First published: 13 February 2016, 17:35 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी