Home » इंडिया » Arun Jaitley funeral at Nigam Bodh Delhi many bjp leaders reaches in last rites
 

पंचतत्व में विलीन हुए अरुण जेटली, बेटे रोहन जेटली ने दी चिता को मुखाग्नि

कैच ब्यूरो | Updated on: 25 August 2019, 15:54 IST

पूर्व वित्त मंत्री और बीजेपी के वरिष्ठ नेता अरुण जेटली पंचतत्व में विलीन हो गए. उनका अंतिम संस्कार दिल्ली के निगमबोध घाट पर किया गया. जहां उनके बेटे रोहन जेटली ने पिता की चिता को मुखाग्नि दी. पूर्व वित्त मंत्री जेटली का शनिवार दोपहर 12.7 मिनट पर एम्स में निधन हो गया था. वह 66 साल के थे. वह पिछले कई महीनों से बीमार चल रहे थे और 9 अगस्त को ही उन्हें एम्स में एडमिट कराया गया था. जहां उनकी सेहत में कोई सुधार नहीं हुआ और आखिरकार 24 अगस्त को वह जिंदगी की जंग हार गए.

रविवार को करीब साढ़े तीन बजे निगमबोध घाट पर उनका अंतिम संस्कार किया गया. इस दौरान, उपराष्ट्रपति वेकैंया नायडू, गृह मंत्री अमित शाह, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह के अलावा बीजेपी के कई दिग्गज नेताओं के साथ, विपक्ष के नेता और जेटली के हजारों प्रशंसक मौजूद रहे.

जेटली पिछले कई महीनों से से बीमार चल रहे थे, जिसके चलते जब बीजेपी दोबारा सत्ता में आई तो अरुण जेटली ने पीएम मोदी को खुद पत्र लिखकर किसी भी मंत्रालय में शामिल ना होने का अनुरोध किया था. उन्होंने अपनी सेहत का हवाला देते हुए ये बात कही थी. जेटली सॉफ्ट टिश्यू कैंसर की बीमारी से जूझ रहे थे. इसी बीमारी के इलाज के लिए वह इसी साल जनवरी में अमेरिका गए थे.

उसके बाद वह फरवरी में वापस भारत लौट आए थे. जेटली ने अमेरिका से इलाज कराकर लौटने के बाद ट्वीट किया था. जिसमें उन्होंने लिखा था, घर आकर खुश हूं. उन्होंने पिछले साल अप्रैल में भी दफ्तर जाना बंद कर दिया था. उसके बाद 14 मई 2018 को एम्स में ही उनकी किडनी प्रत्यारोपण भी हुई थी. इसके अलावा वह शुगर से भी पीड़ित थे. सितंबर 2014 में वजन बढ़ने की वजह से जेटली की बैरियाट्रिक सर्जरी भी कराई गई थी.

जेटली ने अपने ड्राइवर से लेकर कुक तक के बच्चों को विदेशों में पढ़ाया

First published: 25 August 2019, 15:39 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी