Home » इंडिया » Arun Jaitley health condition is very critical in AIIMS put on ECMO system
 

AIIMS में अरुण जेटली की हालत बेहद नाजुक, वेंटिलेटर से हटाकर रखा गया ECMO सपोर्ट पर

कैच ब्यूरो | Updated on: 19 August 2019, 9:20 IST

देश के पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली की हालत बेहद ही नाजुक है. पिछले 10 दिनों से वह AIIMS में एडमिट हैं. इसके बावजूद उनकी स्थिति में कोई सुधार नहीं हो रहा है. अरुण जेटली की बिगड़ती स्थिति को देखते हुए उन्हें अब वेंंटिलेटर से हटाकर एक्सट्राकॉर्पोरियल मेम्ब्रेन ऑक्सीजनेशन (ECMO) पर रखा गया है.

ECMO का उपयोग सांस लेने या दिल की समस्याओं के इलाज के लिए किया जाता है. डॉक्टरों की एक मल्टी डिसिप्लिनरी टीम उनकी निगरानी कर रही है. ईसीएमओ पर मरीज को तब रखा जाता है, जब दिल और फेफड़े लगभग काम करना बंद कर देते हैं और वेंटीलेटर का भी फायदा नहीं हो रहा होता है. इसकी मदद से मरीज के शरीर में ऑक्सीजन पहुंचाई जाती है.

रविवार को दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल अरुण जेटली को देखने के लिए एम्स पहुंचे थे. देर रात केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह भी उन्हें देखने एम्स पहुंचे थे. इससे पहले रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और पूर्वी दिल्ली से बीजेपी सांसद गौतम गंभीर उन्हें देखने के लिए एम्स पहुंचे थे. आरएसएस के सरसंघचालक मोहन भागवत भी उन्हें देखने एम्स पहुंच चुके हैं.

66 वर्षीय जेटली 9 अगस्त से एम्स में भर्ती हैं. वह सांस लेने व बेचैनी की समस्या से जूझ रहे हैं. एम्स ने 10 अगस्त के बाद से जेटली का मेडिकल बुलेटिन जारी नहीं किया है. एक पूरी टीम जेटली की हालत पर नजर रखे हुए है.

कश्मीर में पटती पर लौटने लगी जिंदगी, प्राइमरी स्कूल, सरकारी दफ्तर और टेलिफोन एक्सचेंज भी खुले

बिहार: बाहुबली विधायक अनंत सिंह के बुरे दिन शुरू, कभी नीतीश कुमार को तौला था चांंदी के सिक्कों से

First published: 19 August 2019, 9:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी