Home » इंडिया » arun jaitley: i blacklisted agusta westland not upa govt
 

अरुण जेटली: अगस्ता वेस्टलैंड को मैंने ब्लैक लिस्ट किया था

कैच ब्यूरो | Updated on: 5 May 2016, 12:13 IST

अगस्ता वेस्टलैंड घोटाले के मामले में वित्त मंत्री अरुण जेटली ने बुधवार को कहा कि उस कंपनी को कांग्रेस की यूपीए सरकार ने नहीं, बल्कि रक्षा मंत्री रहते हुए उन्होंने काली सूची में डाला था.

वित्त मंत्री जेटली ने कहा कि उन्होंने रक्षा मंत्री की हैसियत से जून 2014 में 12 हेलीकॉप्टरों की खरीद के सौदे पर रोक लगाई थी और जुलाई में इसके साथ भविष्य में किसी तरह के अनुबंध पर पाबंदी लगा दी थी. 

राजनीतिक इरादे से इनकार


वित्त मंत्री ने कहा कि हेलीकॉप्टर डील में रिश्वत पाने वाले लोगों की पहचान करने को छोड़कर हमारी सरकार का कोई अन्य राजनीतिक इरादा नहीं है.

पढ़ें:अगस्ता वेस्टलैंड घोटाला: पूर्व रक्षा मंत्री एंटनी के दावे को जेटली ने नकारा

जेटली ने कहा, "आज हम इस जगह पर हैं कि हमारे पास ये संदेह करने की वजह है कि रिश्वत ली गई थी और इसकी उपयुक्त जांच होनी चाहिए. आज संदेह करने का एकमात्र कारण है कि किसी के द्वारा रिश्वत ली  गई थी."

जेटली ने कहा कि मामले को आगे बढ़ाने में लाभान्वितों की पहचान करने के अलावा सरकार के पास कोई राजनीतिक इरादा नहीं है. किसी की पहचान एक राजनीतिक विवाद के पीछे नहीं छिपाई जा सकती.

तीन जुलाई 2014 को ब्लैक लिस्ट !


इसके साथ ही कांग्रेस पर निशाना साधते हुए वित्त मंत्री जेटली ने कहा कि विपक्षी दल ये दलील दे रहा है कि यूपीए सरकार ने अगस्ता को काली सूची में डाला और हमने इसे काली सूची से निकाल दिया.

जेटली ने कहा, "कांग्रेस की यूपीए सरकार ने कभी अगस्ता को काली सूची में नहीं डाला था. मैंने पूरे सौदे को 9 जून 2014 को रोका और फिर अटॉर्नी जनरल की सलाह लेने के बाद कंपनी को काली सूची में डालने का आदेश 3 जुलाई 2014 को जारी किया."

पढ़ें:संसद में अगस्ता वेस्टलैंड पर बीजेपी और कांग्रेस में गर्मागर्म बहस

मोदी सरकार की शुरुआती कैबिनेट में अरुण जेटली ने मई 2014 से नवंबर 2014 तक रक्षा मंत्रालय का अतिरिक्त प्रभार संभाला था. 

एंटनी के दावे पर फिर सवाल


जेटली ने इस दौरान कहा कि रक्षा मंत्रालय का तीन जुलाई का आदेश अब तक कायम है. जेटली ने कहा कि अगर कांग्रेस रिश्वत दिए जाने के आरोपों को खारिज करती है तो फिर एके एंटनी ये दावा क्यों कर रहे हैं कि उन्होंने अगस्ता को काली सूची में डाला था?

जेटली ने कहा कि अगर उनका कोई संबंध नहीं है तो उन्हें कहना चाहिए कि एक उपयुक्त जांच होनी चाहिए और सच्चाई को अवश्य सामने आना चाहिए.

यह पूछे जाने पर कि क्या अगस्ता वेस्टलैंड मामले का हश्र भी बोफोर्स कांड जैसा होगा, जेटली ने कहा कि मैं नहीं जानता. यह सामने आने वाले तथ्यों पर निर्भर करेगा.

First published: 5 May 2016, 12:13 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी