Home » इंडिया » arunachal pradesh kahoo village is home to only 76 people
 

अरुणाचल में चीन की सीमा से लगे इस गांव के 12 परिवार ऐसे जी रहे हैं जिंदगी

कैच ब्यूरो | Updated on: 1 April 2018, 13:03 IST

पूर्वोत्तर का अरुणाचल प्रदेश में जनसंख्या के मामले में पूरे देश में 27वें नंबर पर आता है. इस राज्य में चीन की सीमा से सटे हुए क्षेत्र में आबादी कुछ और भी कम नजर आती है. चाइना लाइन ऑफ कंट्रोल (एलएसी) के नजदीक स्थित एक गांव में तो महज 76 लोग ही रहते हैं. इस गांव का नाम है काहू है. काहू गांव में सिर्फ 12 परिवार रहते हैं. जहां बुनियादी सुविधाओं का भारी अभाव है. इससे इस गांव के लोगों  को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है.

बता दें कि अरुणाचल प्रदेश के इस गांव में मेयोर जनजाति के लोग रहते हैं. ये ऐसी जनजाति है, जिसके बारे में कम ही लोग जानते हैं. इसीलिए यहां सुविधाओं का भी बेहद अभाव है. गांव तक पहुंचने के लिए अच्‍छी सड़क नहीं है और न ही नेटवर्क कनेक्टिविटी है. यहां रहने वाले लोग बेहद मुश्किल में दिन काट रहे हैं.

हालांकि इस गांव के लोगों की मदद भारतीय सेना करती है. गांव के मुखिया बताते हैं कि भारतीय सेना उन्हें कॉल और अन्य सेवाएं भी समय-समय पर प्रदान करती रहती है, जिससे उनकी कुछ समस्‍याएं हल हो जाती हैं. गांव के सरपंच कंचोक मेयोर के मुताबिक इस गांव में वे सात पीढ़ियों से रह रहे हैं. यहां कुल 12 परिवार हैं. जिनमें 76 से 80 लोग ही हैं. इस गांव में बुनियादी सुविधाओं की कमी है. खासकर सड़कों की स्थिति बेहद खराब है, यहां तक कि मोबाइल नेटवर्क भी यहां नहीं आता है.

मेयोर बताते हैं कि निकटतम मोबाइल नेटवर्क हवाई में है. जो उनके गांव से लगभग 65 किलोमीटर की दूरी पर है. ऐसे में सेना से गांव वालों को बहुत मदद मिलती है. बता दें कि इस गांव में छह से सात बाइक हैं. जिनका इस्तेमाल रस्सी के पुल को पार करने के लिए किया जाता है. गांव वालों का कहना है कि सरकार कम से कम एक पुल बना दे तो उन्हें आने जाने में सुविधा हो जाएगी.

ये भी पढ़ें- मोदी सरकार ने 13 IAS अफसरों को बनाया संयुक्त सचिव, उप चुनाव आयुक्त होंगे चंद्र भूषण कुमार

First published: 1 April 2018, 13:03 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी