Home » इंडिया » Arvind Kejriwal plays religion card during his Punjab visit
 

नई राजनीति: केजरीवाल धर्म की नौका से पंजाब की नदी पार करने में लगे

राजीव खन्ना | Updated on: 7 July 2016, 7:43 IST

आम आदमी पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने अपनी पंजाब की तीन दिवसीय यात्रा में जहां अल्पसंख्यकों को लुभाया वहीं अपने राजनीतिक विरोधियों पर भी निशाना साधा. पंजाब में अगले साल होने जा रहे विधानसभा चुनाव में पार्टी जीत की कोशिश में है और उसके वरिष्ठ नेता अपनी पंजाब यात्रा के दौरान सिखों, ईसाईयों और मुस्लिमों को अपनी ओर आकर्षित करने की कोशिश में कोई कसर नहीं छोड़ रहे हैं.

ठीक इसी समय वह पंजाब में सत्तारूढ़ शिरोमणि अकाली दल-भाजपा गठबंधन और केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार पर हमले करते दिखे. राज्य के अन्य स्थलों पर हुई सभाओं में अपने संबोधन में उन्होंने पिछले साल सिखों के धर्मग्रन्थ और हाल में 24 जून को पंजाब के मलेरकोटला में कुरान शरीफ के अपमान का भी जिक्र किया. मलेरकोटला की घटना में आप विधायक पर मामला दर्ज किया गया है.

पढ़ें: युवा और नशे के इर्दगिर्द सियासत बुन रहे अरविंद केजरीवाल

गुरदासपुर के एक कार्यक्रम में उन्होंने अकाली दल-भाजपा गठबंधन सरकार पर साम्प्रदायिक राजनीति करने का आरोप मढ़ा. उन्होंने कहा कि आप इन साम्प्रदायिक दलों के खिलाफ एक गंभीर चुनौती बनकर उभरी है. वे आप को बदनाम करने में कोई कसर नहीं छोड़ रहे हैं. आप को बदनाम करना शर्मनाक है. अकाली दल तो पवित्र कुरान को भी बेअदबी से नहीं बचा सकी. पंजाब क्रिश्चियन यूनाइटेड फ्रंट द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम में भाषण देते हुए उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री बनने के बाद से मोदी का ज्यादातर समय उड़ान में ही बीता है. और जब कभी वह भारत में रहते हैं तो विकास के कामों में गतिरोध उत्पन्न कर दिल्ली सरकार को अस्त-व्यस्त करने की ही योजना रचते रहते हैं.

इसके बाद मलेरकोटला (विभाजन के बाद पंजाब का एकमात्र मुस्लिम बाहुल्य क्षेत्र) में एक सभा को संबोधित करते हुए केजरीवाल ने कहा कि कुछ राष्ट्रविरोधी तत्व देश को अस्थिर करने की कोशिश कर रहे हैं. कुरान की बेअदबी पर अपना दुख जताते हुए उन्होंने कहा कि कुछ लोग मेरी और धर्म के नाम पर मेरी पार्टी की बुराई कर रहे हैं, विषवमन कर रहे हैं, ऐसा करके वे अल्पसंख्यक समुदाय की भावनाओं से खेल रहे हैं, उन पर कुठाराघात कर रहे हैं.

मलेरकोटला की घटना में आप विधायक नरेश यादव पर मामला दर्ज किया गया है.

उन्होंने अपने बयान में यह भी जोड़ा कि एक सच्चा हिंदू कभी भी किसी भी पवित्र धर्मग्रन्थ का अपमान नहीं करता. वह हमेशा सभी धर्मों से प्रेम और सम्मान ही करेगा. उन्होंने एक इफ्तार पार्टी में भी हिस्सा लिया और कस्बे के मुस्लिम समुदाय को लोगों से भी मिले.

केजरीवाल ने दोआबा क्षेत्र के दलितों की भावनाओं को भी उभारने की कोशिश की. उन्होंने पंजाब में दलितों पर अत्याचार की बढ़ती घटनाओं पर दुख जताया. उन्होंने घोषणा की कि एक बार सत्ता में आ जाने पर आप सरकार दलितों के खिलाफ अत्याचार की घटनाओं की फिर से जांच के लिए विशेष जांच दल गठित करेगी. दलितों की एक सभा को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि सामने आया है कि दलितों के खिलाफ कई झूठे मामले दर्ज किए गए हैं.

पंजाब में स्वराज पार्टी का घोषणापत्र: हर्बल नशे को अपराधमुक्त किया जाय

दलितों के खिलाफ अत्याचार का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि एक अकाली नेता ने गड़ासे से उसका हाथ काट दिया. उसका कसूर इतना ही था कि उसने अकाली नेता के साथ काम करने से इनकार कर दिया था. उन्होंने आंध्र प्रदेश में दलित छात्र रोहित वेमुला की आत्महत्या घटना को भी रेखांकित किया और घटना को दलित विरोधी घटना से जोड़ा.

केजरीवाल की पंजाब यात्रा इतनी आसान भी नहीं रही. यात्रा की शुरुआत से ही उन्हें विरोध का सामना करना पड़ा. अपनी पंजाब यात्रा के पहले दिन जब वह स्वर्ण मंदिर गए तो अज्ञात लोगों ने उन्हें सिख विरोधी बताते हुए उन पर पर्चे फेंके. पर्चे में उन पर दिल्ली के शीशगंज गुरुद्वारा के निकट एक प्याऊ को ढहाने के लिए उत्तरदायी ठहराया गया था. प्रदर्शनकारियों ने केजरीवाल के विरोध में नारे भी लगाए और आप समर्थकों के साथ हाथापाई भी की. केजरीवाल की यात्रा को शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी ने भी मान्यता नहीं दी. एसजीपीसी ने उन्हें सरोपा भी भेंट नहीं किया.

क्या ड्रग तस्करी की वजह से हुआ पठानकोट हमला?

मलेरकोटला में भी उन्हें अकाली दल से जुड़े स्थानीय मुसलमानों के विरोध का सामना करना पड़ा. उनकी पार्टी के विधायक को कुरान के अपमान मामले में आरोपी बनाया गया है.

राजनीतिक मोर्चे पर अकाली दल अध्यक्ष और पंजाब के उप मुख्यमंत्री सुखबीर सिंह बादल की अलावा उन्हें और किसी के विरोध का विशेष सामना नहीं करना पड़ा. सुखबीर सिंह ने आप पर गुरु ग्रन्थ साहिब का निरादर करने का आरोप लगाया. सुखबीर सिंह ने रविवार को अरविंद केजरीवाल और प्रवक्ता आशीष खेतान की मौजूदगी में युवाओं के लिए जारी घोषणापत्र की तुलना श्री गुरुग्रन्थ साहिब से किए जाने की निंदा की.

दलितों के खिलाफ कई झूठे मामले दर्ज किए गए हैं: केजरीवाल

सुखबीर ने कहा कि यह कृत्य ईशनिन्दा है. इससे विश्व के पूरे सिख समुदाय की भवनाओं को ठेस पहुंची है और हम किसी भी ऐसे कृत्य की निन्दा करते हैं. शिरोमणि अकाली दल के अध्यक्ष ने कहा कि यह समझना चाहिए कि पंजाब के आप नेताओं में अपना खुद का कोई विवेक नहीं है. वे और उनकी टीम केजरीवाल की यस मैन टीम बनकर रह गई है. उनकी टीम बाहर के लोगों की है और उन्होंने धार्मिक धर्मग्रन्थ के अपमान के विरोध में कोई आवाज भी कोई उठाई है. लेकिन एक सिख के रूप में मेरे लिए यह अपमान की बात है कि किस तरह यह नई पार्टी और उसके नेता सिख धर्म पर हमले कर रहे हैं. उनके कामों से लगता है कि वे सिख धर्म और उसके सिद्धान्तों का सम्मान नहीं करते हैं.

क्या आम आदमी पार्टी पंजाब में अतिआत्मविश्वास का शिकार हो रही है?

अकाली दल अध्यक्ष ने कहा कि खेतान की तरफ से केवल माफी मांगा जाना ही पर्याप्त नहीं है. इससे सिखों की भावनाओं को ठेस पहुंची है. उन्होंने केजरीवाल से अपने अधीनस्थों पर तुरंत कार्रवाई किए जाने की मांग की. हालांकि उन्होंने यह भी कहा कि खेतान को पार्टी के सभी पदों से बर्खास्त करना और पार्टी से निकालने से एक संदेश जाएगा कि आप इस घृणित कार्य में शामिल नहीं हैं. लेकिन यदि आप तुरंत कोई कार्रवाई नहीं करते हैं तो यह माना जाएगा कि यह आप पार्टी का योजनाबद्ध प्लान था जिसे आपने रचा था.

पंजाब के मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल ने भी आप पर राज्य में साम्प्रदायिकता फैलाने के लिए हमला बोला. बटाला में संत दर्शन प्रोग्राम से इतर उन्होंने कहा कि आप राज्य में साम्प्रदायिकता के हालात पैदा करने की कोशिश कर रही है और हिंसा फैलाना चाहती है. उन्होंने यह टिप्पणी मलेरकोटला में कुरान की बेअदबी घटना के संदर्भ में की.

First published: 7 July 2016, 7:43 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी