Home » इंडिया » arvinder singh lovely joins congress again, who called sheila dikshit is burden on congress
 

जानिए कौन हैं अरविंंदर लवली जिन्होंने शीला दीक्षित को कहा था 'कांग्रेस पर बोझ'

कैच ब्यूरो | Updated on: 17 February 2018, 13:58 IST

दिल्ली एमसीडी चुनाव से ठीक पहले कांग्रेस छोड़ बीजेपी में शामिल हुए कद्दावर नेता अरविंदर सिंह लवली की एक बार फिर कांग्रेस में वापसी हो गई है. लवली ने उन्हीं अजय माकन से गले मिलकर पार्टी में घरवापसी की जिनकी वजह से ही वह कांग्रेस छोड़ बीजेपी में शामिल हुए थे. वह 9 महीने के भीतर ही बीजेपी छोड़ कांग्रेस में वापस आ गए.

गौरतलब है कि एमसीडी चुनाव से ठीक पहले कांग्रेस को बड़ा झटका देते हुए लवली भाजपा में शामिल हो गए थे. कांग्रेस के पूर्व मंत्री और कद्दावर नेता अरविंद सिंह लवली एमसीडी चुनाव में टिकट बंटवारे से नाराज़ थे. उन्होंने दिल्ली कांग्रेस अध्यक्ष अजय माकन द्वारा की जा रही अनदेखी से नाराज होकर पार्टी छोड़ी थी.

 

अजय माकन ने अपनी गलती मान कहा था कि उन्हें शीला दीक्षित को पहले मना लेना चाहिए था. लवली के कांग्रेस में औपचारिक रूप से शामिल होने के मौके पर माकन ने कहा कि हमें ये घोषणा करते हुए बहुत खुशी हो रही है कि कांग्रेस पार्टी में अरविंदर जी वापस आ गए हैं. अरविंदर कांग्रेस के मज़बूत सिपाही थे इनके आने से कांग्रेस और मज़बूत होगी.

अरविंदर की पार्टी में वापसी पर कांग्रेस नेता शीला दीक्षित ने कहा कि मुझे काफी अच्छा लग रहा है कि वो वापिस आए हैं. उन्होंने पाया कि आखिर में अपना घर ही अच्छा होता है.

वहीं अरविंदर सिंह लवली ने कहा, "मेरे लिए कोई खुशी का निर्णय नहीं था कांग्रेस छोड़कर भारतीय जनता पार्टी को ज्वाइन करना. पीड़ा में लिया गया फैसला था. वैचारिक रूप से मैं भाजपा में अनफिट था."

 

कौन हैं लवली
अरविंदर सिंह लवली कांग्रेस के 4 बार विधायक रहे हैं. 1998 में पहली बार दिल्ली के गांधी नगर से विधायक बने थे. वह शीला दीक्षित सरकार में शिक्षा, शहरी विकास, पर्यटन और परिवहन मंत्री रह चुके हैं. लेकिन अजय माकन को दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने के बात से उनकी अनबन शुरू हो गई और फिर इतना झगड़ा बढ़ गया कि उन्होंने कांग्रेस से ही इस्तीफा दे दिया.

लवली दिल्ली में शीला दीक्षित की सरकार में तीन बार मंत्री रह चुके हैं. वह कांग्रेस के दिल्ली में प्रदेश अध्यक्ष भी रहे थे. लवली शीला दीक्षित के खेमें के माने जाते हैं.

 

गौरतलब है बीजेपी में शामिल होने के एक दिन बाद ही लवली ने शीला दीक्षित एवं दिल्ली कांग्रेस के मुखिया अजय माकन को निशाना बनाया था. किसी समय लवली की मार्गदर्शक रहीं पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित पर निशाना साधते हुए उन्होंने उन्हें कांग्रेस पार्टी पर ‘बोझ’ करार दिया था.

लवली ने संवाददाताओं से कहा था, "शीला दीक्षित एमसीडी चुनाव में कांग्रेस के प्रचार अभियान से पूरी तरह दूर हैं. वह बोझ बन गई हैं." उन्होंने दिल्ली प्रदेश कांग्रेस प्रमुख अजय माकन पर भी निशाना साधा था. उन्होंने कहा था, "माकन को परिश्रम करने के बजाए आराम पसंद है."

First published: 17 February 2018, 13:55 IST
 
अगली कहानी