Home » इंडिया » Asaduddin Owaisi brother Akbaruddin seriously ill admites in London hospital
 

गंभीर बीमारी के चलते लंदन के अस्पताल में जिंदगी और मौत से जूझ रहे ओवैसी, मांगी सलामती की दुआ

कैच ब्यूरो | Updated on: 11 June 2019, 13:10 IST

चुनावी मैदान में अपने भाषणों से दहाड़ लगाने वाले असदुद्दीन ओवैसी के छोटे भाई अकबरुद्दीन ओवैसी गंभीर बीमारी से जूझ रहे हैं. लंदन के अस्पताल में उनका इलाज चल रहा है, अचानक उनकी हालत बेहद खराब हो गई है. वह जिस बीमारी से जूझ रहे हैं वह उनके लिए प्राणघातक है. अकबरुद्दीन के शरीर का सबसे महत्वपूर्ण अंग खराब हो चुका है.

अकबरुद्दीन के बड़े भाई और AIMIM चीफ असदुद्दीन ओवैसी ने अपने समर्थकों से अपील की है कि वे उनके भाई की सलामती के लिए दुआ करें. आंध्र प्रदेश के सीएम जगन मोहन रेड्डी ने उनकी सलामती के लिए दुआ की है. उन्होंने ट्वीट कर इस बात की जानकारी दी. जगन मोहन ने ट्वीट किया, "वे अकबरुद्दीन ओवैसी की सेहत में जल्द सुधार के लिए प्रार्थना कर रहे हैं."

अकबरुद्दीन ओवैसी आंध्र प्रदेश के चंद्रयानगुट्टा से विधायक हैं. उनका इलाज लोकसभा चुनाव के समय से ही लंदन में चल रहा है. तीन दिन पहले ही अकबरुद्दीन को अचानक से उल्टियां होने लगीं और पेट में तेज दर्द हुआ. इसके बाद उन्हें आनन-फानन में अस्पताल में भर्ती कराया गया.

बता दें कि अकबरुद्दीन ओवैसी की किडनियां खराब हो गई हैं. तेलंगाना चुनाव प्रचार के दौरान ये राज खुद उन्होंने खोला था. इसकी वजह उनके ऊपर हुआ एक बड़ा हमला है. साल 2011 में अकबरुद्दीन के ऊपर हमला हुआ था. 30 अप्रैल 2011 को अकबरुद्दीन पर गोली चली थी और उनके पेट में चाकू मारा गया था.

ओवैसी पर हुए इस भयंकर हमले में वो बच तो गए थे लेकिन उसके बाद से ही उनकी किडनियों में समस्या आ गई है. इसके बाद से ही उनको पेट में दिक्कत हो जाती है. वो पेशाब भी बड़ी मुश्किल से कर पाते हैं. जिससे बार-बार उनको अस्पताल में भर्ती होना पड़ता है.

पिछले साल दिसंबर महीने में अकबरुद्दीन को अचानक जुबिली हिल्स के अपोलो अस्पताल में भर्ती करवाना पड़ा था. तब उनकी हालत काफी खराब हो गई थी. उनको पेट में तेज दर्द हुआ था. डॉक्टरों की टीम ने उनका गहन परीक्षण किया था. 

BJP सांसद डॉ. वीरेंद्र कुमार होंगे 17वीं लोकसभा के प्रोटेम स्पीकर

भारत ने कहा- PM मोदी के विमान को अपने एयर स्पेस से गुजरने दे पाकिस्तान, मिला ऐसा जवाब

First published: 11 June 2019, 13:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी